मनोरंजन

किम कार्दशियन को पड़ सकता है दिल का दौरा, जानें डॉक्टर ने क्यों कही ये बात?

Janta Se Rishta Admin
8 May 2022 11:20 AM GMT
किम कार्दशियन को पड़ सकता है दिल का दौरा, जानें डॉक्टर ने क्यों कही ये बात?
x

अमेरिका (US) में मेट गाला के लिए रियलिटी-टीवी स्टार किम कार्दशियन (Kim Kardashian) ने 1962 में मर्लिन मुनरो द्वारा पहनी गई ड्रेस में फिट होने के लिए तीन सप्ताह में 7.3 किलोग्राम वजन कम किया. यह ड्रेस द सेवन ईयर इच फिल्म की स्टार मर्लिन मुनरो ने तब पहनी थी जब उन्होंने पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति जेएफ कैनेडी को जन्मदिन की बधाई दी थी. 1999 में यह ड्रेस 1.26 मिलियन डॉलर और 2005 में 4.6 मिलियन डॉलर में नीलाम की गई थी. इस ड्रेस को तैयार करने में Costumier Jean Louis (कॉस्ट्यूमियर जीन लुईस) ने 6000 से ज्यादा क्रिस्टल का इस्तेमाल किया. डाइटिंग के बारे में एक गलत मैसेज देने के लिए किम कार्दशियन की आलोचना की गई. हालांकि उन्होंने कहा कि डाइटिंग के लिए वो कभी भूखी नहीं रहीं लेकिन वह इसे लेकर बहुत स्ट्रिक्ट थीं. अपोलो हॉस्पिटल्स की चीफ न्यूट्रिशनिस्ट डॉ प्रियंका रोहतगी ने TV 9 को बताया कि इतना वजन कम करना संभव है लेकिन किसी को भी इतने कम समय में इतना वजन घटाने की सलाह नहीं दी जाती है.

डॉ रोहतगी ने कहा, 'हमें नहीं पता कि उन्होंने (किम कार्दशियन) इसके लिए क्या डाइट प्लान फॉलो किया. लेकिन किम कार्दशियन दावा करती हैं कि उन्होंने ज्यादा एक्सरसाइज, प्रॉपर हाईड्रेशन और खाने में फाइबर और प्रोटीन के जरिए इतना वेट लॉस किया है. वास्तव में क्या किया गया था यह जानकारी नहीं है. हालांकि हाइड्रेशन और खाने में सही मात्रा में फाइबर और प्रोटीन के जरिए इतना वजन घटाना संभव है. दिक्कत तब होती है जब लोग अनाज, चावल और गेहूं जैसे कार्बोहाइड्रेट को अपनी डाइट में शामिल करना बंद कर देते हैं.'

डॉ रोहतगी ने कहा कि कार्बोहाइड्रेट रेगुलर डाइट (नियमित आहार) का हिस्सा होना चाहिए. कार्ब्स इंटेस्टाइन को हेल्दी रखने में मदद करते हैं. ये वो गुड बैक्टीरिया प्रोवाइड करते हैं जो इंटेस्टाइन में होने चाहिए. यह इंटेस्टाइन (आंत) को बहुत सारे न्यूट्रिएंट्स को अब्सोर्व करने में मदद करते हैं जिनकी बॉडी (शरीर) को जरूरत होती है. गट माइक्रोबायोम को प्रिजर्व (संरक्षित) करने के लिए हर खाने में कुछ मात्रा में कार्ब्स का होना जरूरी है. ऐसा न करने पर इम्यूनिटी (प्रतिरक्षा) कम हो जाती है. इसके अलावा यदि आप खाने में कार्ब्स बिलकुल नहीं लेते से और फिर बाद में शुरू करते हैं तो आपको डाइजेशन (पाचन) में दिक्कत होगी. आगे जाकर आपको खाने की मात्रा कम करनी होगी और फाइबर और प्रोटीन जैसे हेल्दी ऑप्शन का चुनाव करना होगा. कार्बोहाइड्रेट को डाइट से अलग कर देना सही तरीका नहीं है.

उन्होंने कहा कि कोई भी डाइट प्लान प्रोपर एक्सरसाइज के साथ फॉलो किया जाना चाहिए. डॉ रोहतगी ने समझाया कि ऐसा इसलिए है क्योंकि आपने जो प्रोटीन कन्ज्यूम किया है वह मसल्स (मांसपेशियों) का निर्माण करने के लिए है." उन्होंने कहा कि इस तरह का डाइट प्लान एक आम आदमी के लिए संभव नहीं है. डॉ रोहतगी ने कहा, 'मैं इसकी सिफारिश नहीं करूंगी कि कोई व्यक्ति तीन-चार घंटे जिम में कसरत करें. आम आदमी के पास ऐसा करने के लिए पैसा, समय और लग्जरी नहीं है. इसलिए इस तरह का भारी वजन घटाना हर एक के लिए नहीं है. अगर बिना किसी सुपरविजन के इस तरह वजन घटाया जाए तो इसके कई नुकसान हो सकते हैं. इससे बहुत सारे मसल्स का लॉस होता है. मसल्स लॉस की वजह से दूसरी हेल्थ प्रॉब्लम जैसे डायबिटीज और हार्ट प्रोब्लम सामने आती हैं. कोई भी सिर्फ वजन कम करने के लिए इन बिमारियों से ग्रस्त होना नहीं चाहता.'

Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta