मनोरंजन

जावेद अख्तर ने जाहिर की खुशी युवा कवियों के हुनर पर कहा- शायरी में ये नया रूप भाषा शैली लाए हैं

Akansha
14 Aug 2021 12:10 AM GMT
जावेद अख्तर ने जाहिर की खुशी युवा कवियों के हुनर पर कहा- शायरी में ये नया रूप भाषा शैली लाए हैं
x
गीतकार जावेद अख्तर ने वर्तमान में युवा कवियों द्वारा किए जा रहे कामों की सराहना की है, उनका कहना है कि युवा कवियों ने शायरी और कविता की भाषा शैली पर काफी काम किया है.

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। महान कवि, स्क्रिप्ट राइटर और गीतकार जावेद अख्तर ज़ी लाइव पर आने वाले शो 'इंडिया शायरी प्रोजेक्ट' में एक विशेष अभिनय पेश करते दिखेंगे. जिसका प्रीमियर 15 अगस्त को किया जाएगा. इस शो में शायरी और कविता को पसंद करने वालों का खासा ध्यान रखा गया है. इस शो में गीतकार और शायर शामिल होंगे, जिनमें लेखक कौसर मुनीर, कॉमेडियन जाकिर खान और कवि कुमार विश्वास शामिल होंगे.

युवा कवियों के काम की सराहन

एक इंटरव्यू के दौरान शो के लॉन्च से पहले जावेद अख्तर ने इंडिया शायरी प्रोजेक्ट के साथ अपने जुड़ाव के बारे में बातचीत की है. उनका कहना है कि इस शो का उद्देश्य कविता और स्वतंत्रता का जश्न मनाना है. हालांकि पद्म भूषण प्राप्त जावेद अख्तर ने युवा कवियों को अपने काम को दुनिया के सामने रखने के लिए विभिन्न माध्यमों, विशेष रूप से डिजिटल माध्यमों का उपयोग करने के लिए उनकी सराहना की है. उनका कहना है कि युवा कवि अपने क्राफ्ट और ऐस्थेटिक्स को बेहतर बनाने की आवश्यकता पर जोर दिया है.

जावेद अख्तर का कहना है कि शायरी या कविता भारत का एक बहुत ही अभिन्न अंग रही है और यह समय के साथ विकसित हुई है. उनका कहना है कि 'अलग-अलग समय में कम्युनिकेशन के विभिन्न रूप विकसित हुए हैं. वर्तमान समय में शायद ही लोग लिखित शब्द या कागज पर निर्भर रहते हैं. उन्हें इलेक्ट्रॉनिक मीडिया से बहुत सारी जानकारी मिलती है. वे विभिन्न प्रकार के मंचों पर कविता सुनते हैं जो आसानी से और आसानी से उपलब्ध हैं.'

बदल गया कम्युनिकेशन का जरिया

जावेद अख्तर का कहना है कि उनसे अक्सर पूछा जाता है कि युवा पीढ़ी कविता में रुचि खो रही है. जिस पर उनका कहना है कि यह सही नहीं है. उनका कहना है कि हो सकता है कि कम्युनिकेशन का जरिया बदल गया है, लेकिन आज भी यूट्यूब या अन्य प्लेटफार्मों पर कविताओं और कवियों का बहुत बड़ा दर्शक वर्ग मौजूद है.

उनका कहना है कि 'युवा कवि अपने दम पर कविता की खोज कर रहे हैं और मुझे आपको यह बताते हुए बहुत खुशी हो रही है कि युवा कवियों ने एक नया रूपक, एक नई भाषा और एक नई शैली विकसित की है. मैं कविता और उसके भविष्य के साथ-साथ युवा पीढ़ी और पुरानी पीढ़ी के बीच संबंध के बारे में सकारात्मक विचार रखता हूं.'

कविता और शायरी को लेकर उनका कहना है कि 'यह एस्पिरिन या एक गोली की तरह नहीं है जिसे आप अपने सिरदर्द से छुटकारा पाने के लिए पॉप कर सकते हैं. कविता विटामिन की तरह होती है, जिसका लगातार इस्तेमाल करते रहने से यह धीरे-धीरे आपके सौंदर्य और आपकी दिमाग की मांसपेशियों को विकसित करने में मदद करता है.'

Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it