अन्य

मायने ये नहीं रखता कि आप कहां से आते हैं, जो चुना है, उसमें बेस्ट होना ही मायने रखता है!

Gulabi
16 Dec 2021 9:45 AM GMT
मायने ये नहीं रखता कि आप कहां से आते हैं, जो चुना है, उसमें बेस्ट होना ही मायने रखता है!
x
भारतीय महिलाएं लंबे समय से विभिन्न क्षेत्रों में रिकॉर्ड बना रही हैं

एन. रघुरामन का कॉलम: भारतीय महिलाएं लंबे समय से विभिन्न क्षेत्रों में रिकॉर्ड बना रही हैं। पिछले छह दिनों में तीन महिलाओं की हर जगह प्रशंसा हो रही है। वे अपने-अपने क्षेत्र का उभरता सितारा रहीं। वे ना केवल योग्य, बल्कि महात्वाकांक्षी भी थीं और सबसे जरूरी बात कि जिम्मेदारी बढ़ने के साथ उन्होंने और बेहतर किया। प्रस्तुत है उनकी कहानियां...

1. वह पंजाब में गुरदासपुर जिले के छोटे से गांव कोहाली से हैं। किसानों के साथ उनका एक भांगड़ा वायरल हुआ। पर इस सोमवार को जब वह इजरायल के इलियट शहर में यूनिवर्स डोम के रैंप पर चलीं, तो पूरा भारत खुशी से उछल पड़ा, क्योंकि पूरे 21 साल बाद भारत के खाते में मिस यूनिवर्स 2021 का खिताब आया। साल 2000 में लारा दत्ता और 1994 में सुष्मिता सेन के बाद वह तीसरी महिला हैं। हां, ये हरनाज कौर संधू हैं।
वह अब सिर्फ दो हजार की आबादी वाले कोहाली की बेटी नहीं रहीं, अब पूरे यूनिवर्स की सबसे खूबसूरत बेटी हैं! सुंदर होने के बावजूद वह जमीन से जुड़ी रहती हैं और एक बार कहा था, 'यहां के गांव वाले हमेशा मेरी सफलता की दुआ करते हैं और उन्हें यश दिलाने के लिए मैं अपना सर्वश्रेष्ठ दूंगी।' और उन्होंने इस सोमवार को अपना वादा पूरा किया। कोई आश्चर्य नहीं कि चहल-पहल से दूर इस गांव ने जब ये खबर सुनी कि उनकी बेटी हरनाज को मिस यूनिवर्स खिताब से नवाजा गया है, तो सारा गांव इकट्‌ठा होकर जश्न मनाने लगा।
2. किसी भी बड़े कॉर्पोरेट के सबसे सुरक्षित, मानव संसाधन विभाग से वह आती हैं। और एक बार जब आप उन्हें विभाग की जिम्मेदारी सौंप दैं, तो वे लंबा रुकती हैं और उसे अच्छी तरह संभालती हैं। वह कोई अपवाद नहीं थीं। वह एक कंपनी के साथ 30 साल रहीं। उन्होंने सारे घिसे-पिटे काम जैसे नियुक्ति पत्र तैयार करना, सैलरी शीट बनाने के साथ बाकी काम तो किए ही, पर तय कामों से परे जाकर भी काम किए। उनका भरोसा था कि वह हर इँंसान में उत्साह पैदा कर सकती हैं, जिससे ना सिर्फ बिजनेस बल्कि दुनिया को बेहतर बनाया जा सकता है।
कोई ताज्जुब नहीं कि फ्रेंच लग्जरी ग्रुप शनल ने यूनीलीवर की मुख्य मानव संसाधन अधिकारी लीना नायर को मंगलवार को अपना ग्लोबल सीईओ बनाया है। महाराष्ट्र के छोटे से कस्बे कोल्हापुर में पली-बढ़ी, एक बड़ी वैश्विक कंपनी के सीईओ का पद संभालने वाली वह दूसरी भारतीय मूल की महिला हैं, इससे पहले इंदिरा नूयी पेप्सिको की सीईओ थीं। 10 बिलियन डॉलर की कंपनी शनल अब बड़ी कंपनियों जैसे लुई विटन, हर्मेस, गुच्ची, लॉरियाल से मुकाबली करेंगी।
3. इस वीकेंड मुंबई में बांद्रा से गुजरते हुुए सलमान खान ने बड़ा-सा होर्डिंग देखा। वह तुरंत इंस्टाग्राम पर गए और 'आर्या-2' के होर्डिंग की तस्वीर पोस्ट करते हुए सुष्मिता को बधाई दी- 'अरे वाह सुश कितनी अच्छी लग रही हो। टोटली किलिंग। तुम्हारे लिए बहुत खुश हूं।' मैंने अभी तक जितनी भारतीय ड्रामा सीरीज देखी हैं, उनमें बेस्ट में से ये एक है। कोई आश्चर्य नहीं कि 49वें इंटरनेशनल एमी अवॉर्ड में बेस्ट ड्रामा सीरिज में यह नामित हुई थी, पर हिब्रू सीरियल 'तेहरान' के खिलाफ हार गई, अवॉर्ड पाने वाली यह पहली इजरायली सीरीज है। आर्या एक महिला की अंदरुनी ताकत का चित्रण करती है और सुष्मिता से बेहतर इसे कौन कर सकता था? उनकी भूमिका इस बात का एक और उदाहरण है कि आज महिलाएं क्या कर सकती हैं।
फंडा यह है कि ये मायने नहीं रखता कि आप कहां से आते हैं, जिस जगह होना चाहते हैं, वो चुनने के बाद उस पर राज करने के लिए बेस्ट बनें।
Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it