जरा हटके

चिड़ियाघर में घूमने आ रहे लोगों और बच्चों को गंदी-गंदी गाली देते थे ये तोते

Bharti sahu
1 Dec 2021 3:05 PM GMT
चिड़ियाघर में घूमने आ रहे लोगों और बच्चों को गंदी-गंदी गाली देते थे ये तोते
x
अक्सर आपने किसी तोते को गाते या इंसानी भाषा बोलते हुए देखा होगा। तोता एक ऐसा पक्षी है

अक्सर आपने किसी तोते को गाते या इंसानी भाषा बोलते हुए देखा होगा। तोता एक ऐसा पक्षी है जो इंसानों की भाषा बोल लेता है, लेकिन क्या आपने कभी ये सोचा है कि अपने इसी बोलने वाली हुनर से कुछ तोते चिड़ियाघर की नाक कटवा देंगे? जी हां, ये बिल्कुल सच है। ब्रिटेन में एक ऐसा ही मामला सामने आया है, जहां के एक चिड़ियाघर से 5 तोतों को हटाना पड़ गया, क्योंकि वो लोगों को गंदी-गंदी गाली देने लगे थे।ये तोते चिड़ियाघर में घूमने आ रहे लोगों और बच्चों को बेहद गंदी-गंदी गाली देने लगे थे, जिससे चिड़ियाघर को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा था। फिरलहाल इन तोतों की हरकतों को देखते हुए इन्हें तुरंत चिड़ियाघर से हटा दिया गया है। बताया जा रहा है कि ये पांच तोते एक साथ कुछ समय क्वारंटीन में थे, जिसके बाद से उनमें ये बदलाव देखा गया।

ब्रिटेन के लिंकनशायर वन्यजीव पार्क में कुछ दिन पहले ही पार्क के अधिकारियों ने एरिक, जेड, एल्सी, टायसन और बिली नाम के ग्रे कलर के इन पांच तोते अलग-अलग लोगों से लिया था और इसके बाद पांचों को एक साथ एक ही पिंजरे में क्वारंटीन में रखने का फैसला लिया था। उसके कुछ ही दिनों में अधिकारियों के पास इन तोतों की शिकायत पहुंचने लगी।
पार्क के कर्मचारियों के अनुसार पहले ये तोते आपस में ही एक दूसरे को गालियां दे रहे थे और इसके बाद वहां आने वाले लोगों को भी इन्होंने गालियां देनी शुरू कर दी। पार्क के अधिकारियों का कहना है कि हो सकता है कि एक साथ रहने के दौरान इन तोतों ने आपस में गालियां देना सीख लिया होगा।
इस बारे में वन्यजीव पार्क के चीफ एग्जीक्यूटिव स्टीव निकोल्स ने बताया कि यहां सभी लोग हैरान हैं कि ये तोते गालियां दे रहे थे। हम लोग यहां आने वाले बच्चों के बारे में थोड़ा परेशान थे। उन्होंने बताया कि तोतों के मुंह से गालियां सुनकर यहां आने वाले लोग हंसने लगे तो इन तोतों को और बढ़ावा मिला और ये पहले से ज्यादा गालियां देने लगे।पार्क के अधिकारियों के मुताबिक तोतों की गालियां सुनकर लोग इनपर हंसते थे और जितना ज्यादा लोग हंसते थे, ये उतनी ज्यादा गालियां देते थे। इसके बाद पार्क में आने वाले बच्चों का ध्यान रखते हुए हमें इन तोतों को वहां से हटाना पड़ा। उम्मीद है कि अलग-अलग होने के बाद ये तोते कुछ नए शब्द सीखेंगे और गालियां देना बंद करेंगे।


Bharti sahu

Bharti sahu

    Next Story