जरा हटके

बिग बैंग थ्योरी ब्रह्मांड की उत्पत्ति को लेकर अब तक का सबसे स्थापित सिद्धांत बारे में...जानिए

Ekta Sahu
24 Sep 2021 1:39 PM GMT
बिग बैंग थ्योरी ब्रह्मांड की उत्पत्ति को लेकर अब तक का सबसे स्थापित सिद्धांत बारे में...जानिए
x
बिग बैंग थ्योरी ब्रह्मांड की उत्पत्ति को लेकर अब तक का सबसे स्थापित सिद्धांत है।

जनता से रिश्ता वेबडेस्क | बिग बैंग थ्योरी ब्रह्मांड की उत्पत्ति को लेकर अब तक का सबसे स्थापित सिद्धांत है। बिग बैंग से पहले समय और स्पेस जैसी कोई भी चीज नहीं थी। ब्रह्मांड का सारा कुछ एक बिंदु में कैद था। अचानक हुए एक महाविस्फोट के बाद ये जगत अस्तित्व में आया। इस महाविस्फोट के बाद धीरे धीरे कई आकाशगंगाएं बननी शुरू हुईं और इस ब्रह्मांड की फैलने की गति में वृद्धि हुई। बिग बैंग के बाद इन आकाशगंगाओं का निर्माण कैसे हुआ? इसको लेकर हमारे पास ज्यादा जानकारी नहीं है। इसी की जानकारी जुटाने के लिए जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप अंतरिक्ष में जाने के लिए तैयार है। कहा जा रहा है कि ये हब्बल टेलीस्कोप की जगह लेने वाला है। ये टेलीस्कोप ब्रह्मांड के कई रहस्यों को सुलझाने का काम करेगा। ये उन आकाशगंगाओं के बारे में जानकारी जुटाएगा, जो बिग बैंग के बाद बनी थीं। इसका निर्माण में करीब 9.7 बिलियन डॉलर का खर्चा आया है। आइए जानते हैं इसके

जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप आने वाले समय में अंतरिक्ष से जुड़े रिसर्च के कई नए आयाम खोलने वाला है। ये डार्क एनर्जी, गैलेक्सी फॉर्मेशन, तारों का जीवन चक्र आदि कई जटिल विषयों के बारे में बारीक जानकारी इकट्ठा करेगा। इस विशालकाय टेलीस्कोप में कई तरह के विशेष उपकरणों को लगाया गया है। ये लंबी दूरी से सफर करके आ रही इंफ्रारेड तरंगों को पकड़ने में भी काबिल होगा।
इस टेलीस्कोप की सबसे खास बात है कि ये धूल के बादलों के पीछे छुपे तारों को देखने में भी सक्षम होगा। इसके अलावा ये लंबी दूरी से तय करके आ रही वेवलेंथ को भी आसानी से डिटेक्ट कर सकेगा। इस टेलीस्कोप को हब्बल का अपग्रेडेड वर्जन भी कहा जा रहा है। इसके अलावा तारों के लाइफ साइकिल के बारे में भी काफी कुछ जानने को मिलेगा।
कई खगोलविदों का कहना है कि हमारा ब्रह्मांड काफी तेज गति से फैल रहा है। हालांकि अब तक उसकी फैलने की गति का ठीक अंदाजा नहीं लग पाया है। कुछ वैज्ञानिकों के अनुसार ब्रह्मांड प्रकाश की गति से भी ज्यादा तेज फैल रहा है। उनके मुताबिक ब्रह्मांड के फैलने की वजह डार्क एनर्जी है। डार्क एनर्जी खुद भी एक बहुत बड़ी पहेली है। ऐसे में जेम्स वेब टेलीस्कोप इन गुत्थियों को सुलझाने में मील का पत्थर साबित होने वाला है।
नासा जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप को 18 दिसंबर 2021 के दिन लॉन्च करने का प्लान बना रहा है। हब्बल का उत्तराधिकारी कहा जाने वाला ये टेलीस्कोप लॉन्च होने के बाद हमें दूर अंतरिक्ष की वो तस्वीरें दिखाने वाला है, जिन्हें हमने अब तक नहीं देखा है।



Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta