दिल्ली-एनसीआर

सीएनजी की बढ़ती कीमतों के खिलाफ आज जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करेंगे टैक्सी और ऑटो चालक

Renuka Sahu
8 April 2022 3:30 AM GMT
सीएनजी की बढ़ती कीमतों के खिलाफ आज जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करेंगे टैक्सी और ऑटो चालक
x

फाइल फोटो 

सीएनजी की कीमत में लगातार बढ़ोतरी के खिलाफ ऑटो, कैब और टैक्सी चालकों ने मांगों पर सुनवाई न होने पर हड़ताल की चेतावनी दी है।

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। सीएनजी की कीमत में लगातार बढ़ोतरी के खिलाफ ऑटो, कैब और टैक्सी चालकों ने मांगों पर सुनवाई न होने पर हड़ताल की चेतावनी दी है। शुक्रवार को अपनी मांगों के समर्थन में जंतर मंतर पर प्रदर्शन करेंगे। अगर सरकार की तरफ से ईंधन पर सब्सिडी नहीं प्रदान की गई या किराये में राहत नहीं मिली तो विरोध तेज करेंगे। 11 को दिल्ली सचिवालय पर भी विरोध जताएंगे, जिसमें दिल्ली-एनसीआर के हजारों चालकों के शामिल होने की उम्मीद है।

सर्वोदय ड्राइवर्स वेलफेयर एसोसिएशन के कमलजीत गिल ने कहा कि सीएनजी समेत सभी ईंधन की कीमत में बढ़ोतरी से चालकों की परेशानी काफी बढ़ गई है। इसे नियंत्रित करने के लिए सरकार की तरफ से राहत देने और किराया बढ़ाने की मांग है। रवि राठौर ने कहा कि अगर मांगों पर सुनवाई नहीं हुई तो एसोसिएशन अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाएगा। सीएनजी की दरें कम करने की लगातार मांग कर रहे हैं। बावजूद अगर मौजूदा हालात को देखते हुए अगर कीमत बढ़ोतरी की जा रही है तो किराये में वृद्धि से राहत मिल सकती है। पिछले 7-8 वर्षों से ओला और उबर के किराए में कोई संशोधन नहीं हुआ है।
दिल्ली ऑटो रिक्शा संघ के महासचिव राजेंद्र सोनी ने कहा कि सीएनजी की कीमतों में बेतहाशा बढ़ोतरी से वाहन चालकों के लिए मुश्किलें इतनी बढ़ गई हैं कि उनका इस कारोबार में रहना मुश्किल हो गया है। दिल्ली में फिलहाल करीब एक लाख ऑटो चल रहे हैं। अपनी मांगों के समर्थन में
एसोसिएशन की तरफ से मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को पत्र लिखकर सीएनजी पर 35 रुपये प्रति किलो की सब्सिडी देने की मांग की गई है। अगर मांगों पर जल्द सुनवाई नहीं की गई तो 18 अप्रैल से सभी यूनियनों के चालक अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाएंगे। हमने मूल्य वृद्धि का विरोध करने के लिए 11 अप्रैल को सचिवालय के बाहर सांकेतिक प्रदर्शन करने का भी फैसला किया है। दूसरे ऑटो और टैक्सी यूनियन समेत दिल्ली प्रदेश टैक्सी यूनियन और ऑल दिल्ली ऑटो टैक्सी ट्रांसपोर्टर्स कांग्रेस यूनियन के प्रतिनिधि भी विरोध प्रदर्शन में शामिल होंगे।
फिलहाल दिल्ली में सीएनजी से कैब, ऑटो, टैक्सी, बस प्रमुख सार्वजनिक परिवहन संचालित हो रहे हैं। सीएनजी की कीमतों में लगातार दूसरे दिन 2.50 रुपये प्रति किलोग्राम की बढ़ोतरी से मार्च के अब तक कुल 12.50 रुपये किलोग्राम की बढ़ोतरी हुई है। बृहस्पतिवार को सीएनजी की कीमत दिल्ली में 69.11 रुपये प्रति किलोग्राम है। सोनी ने सरकार से अपील की कि जब सरकार बिजली और पानी पर सब्सिडी दे सकती है, तो ऑटो, कैब या टैक्सी चालकों को सरकार राहत क्यों नहीं दे सकती है।
दिल्ली-एनसीआर परिवहन एकता मंच के महासचिव श्याम सुंदर ने भी कहा कि उनका संघ सीएनजी और अन्य ईंधन की कीमतें कम करने की मांग करता है। जल्द ही भविष्य के रणनीति पर निर्णय लेंगे। पिछले 16 दिनों में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में 10 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई है।
किराये में बढ़ोतरी से मिलेगी राहत
यूनियन के अध्यक्ष संजय सम्राट ने कहा कि पेट्रोल, डीजल और सीएनजी की कीमत में बढ़ोतरी से टैक्सी, कैब और ऑटो चालकों की परेशानी बढ़ गई है। दूसरे शहरों में टैक्सी से सफर करने वालों से अगर किराये में बढ़ोतरी की जाती है तो इसे मानने के लिए तैयार नहीं होते। चालकों को राहत देने के लिए सरकार को मांगे जल्द पूरी करनी चाहिए।
अधिकतर कैब-टैक्सी में एसी का इस्तेमाल बंद
कमलजीत गिल ने कहा कि सीएनजी की कीमत में लगातार बढ़ोतरी से परेशान होकर अधिकतर वाहनों में एसी का फिलहाल इस्तेमाल नहीं किया जा रहा है। एसी के चालू रहने से प्रति किलोमीटर खर्च में बढ़ोतरी हो जाती है। अगर, एसी ऑन रहे तो टैक्सी चालकों के लिए कारोबार में टिके रहना मुश्किल हो जाएगा।
Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta