दिल्ली-एनसीआर

स्लीपर सेल मामला: ईकोटेक-वन और बीटा-2 पुलिस इंटेलिजेंस यूनिट के सवालों में घिरी, जानिए पूरी खबर

Admin Delhi 1
22 Jun 2022 10:51 AM GMT
स्लीपर सेल मामला: ईकोटेक-वन और बीटा-2 पुलिस इंटेलिजेंस यूनिट के सवालों में घिरी, जानिए पूरी खबर
x

एनसीआर नॉएडा क्राइम न्यूज़: ग्रेटर नोएडा में रहने वाले 2 चीनी घुसपैठियों को पुलिस ने दबोचा है। इनको ग्रेटर नोएडा के गेस्ट हाउस में रखने वाले चीनी जासूस को भी जेल भेज दिया गया है। इस मामले में इंटेलिजेंस यूनिट के बाद अब थाने की पुलिस की भी भूमिका संदिग्ध लग रही है। इस मामले में अब ग्रेटर नोएडा की डीपीसी मीनाक्षी कात्यायन जांच के आदेश दिए हैं। ईकोटेक वन और बीटा-2 कोतवाली के बीट सिपाही, हलका इंचार्ज और थानेदार की भूमिका की जांच की जा रही है। यह जांच एडिशनल डीसीपी विशाल पांडे को सौंपी गई है।

4 सालों से फर्जी दस्तावेजों पर रह रहा था जासूस: ग्रेटर नोएडा के घरबरा में एक गेस्ट हाउस चल रहा था। जिसमें चीनी जासूस सु फाइ चीनी नागरिकों को रखता था। इसमें इंटेलिजेंस यूनिट की बड़ी लापरवाही सामने आई थी। यहां पर भारी मात्रा में विदेशी युवक और युवती रहते थे और इस बात का इंटेलिजेंस यूनिट को पता भी नहीं था। इससे भी बड़ी बात यह है कि चीनी जासूस पिछले 4 सालों से ग्रेटर नोएडा में अवैध दस्तावेज के आधार पर रह रहा था और इस बात की इंटेलिजेंस यूनिट को भनक तक नहीं थी।

ईकोटेक-1 और बीटा-2 थाने में तैनात पुलिसकर्मियों की जांच शुरू: अब इस मामले में ईकोटेक-1 और बीटा-2 कोतवाली में तैनात बीट सिपाही, हलका इंचार्ज और थानेदार की भूमिका की जांच की जा रही है। इन सभी की भूमिका इस मामले में संदिग्ध लग रही है। यह एक बड़ा सवाल है कि थाने की पुलिस पेट्रोलिंग करती है, कौन से गेस्ट हाउस में क्या हो रहा है और किसके नाम पर है। इस सभी बात की जानकारी थाने स्तर की पुलिस को होती है। उनके बावजूद भी थाने की पुलिस को इस गेस्ट हाउस के बारे में क्यों नहीं पता था। बल्कि थाने की पुलिस को अपने इलाके की हर गतिविधियों के बारे में मालूम होना चाहिए और ऐसा होता भी है, लेकिन ग्रेटर नोएडा में इतना बड़ा खेल हो रहा था और पुलिस को इस बारे में पता नहीं।

Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta