दिल्ली-एनसीआर

प्रियंका हत्याकांड में हुआ खुलासा: बिजनेसमैन और उसकी पत्नी समेत चार गिरफ्तार

Kunti Dhruw
5 April 2022 6:45 PM GMT
प्रियंका हत्याकांड में हुआ खुलासा: बिजनेसमैन और उसकी पत्नी समेत चार गिरफ्तार
x
ट्यूटर प्रियंका की हत्या के मामले में राजस्थान के अलवर जिले की ततारपुर थाना पुलिस ने व्यापारी कपिल गुप्ता और उसकी पत्नी समेत 4 लोगों को गिरफ्तार किया है.

नई दिल्ली: ट्यूटर प्रियंका की हत्या के मामले में राजस्थान के अलवर जिले की ततारपुर थाना पुलिस ने व्यापारी कपिल गुप्ता और उसकी पत्नी समेत 4 लोगों को गिरफ्तार किया है. आरोपी कपिल गुप्ता ने पुलिस के सामने खुलासा किया है कि प्रियंका और उसके बीच रिलेशनशिप थी और अब प्रियंका इसी बात का दबाव बना रही थी. इसी दबाव के चलते कपिल गुप्ता ने अपने 2 कर्मचारियों के साथ मिलकर उसकी हत्या कर दी और फिर अपनी पत्नी सुनैना को भी साथ लेकर प्रियंका के शव को अलवर जिले के ततारपुर थाना क्षेत्र में फेंक दिया.

कपिल गुप्ता के इस खुलासे को लेकर प्रियंका के परिजनों में खासा गुस्सा है. उनका कहना है कि कपिल गुप्ता और उसकी पत्नी सबके सामने प्रियंका को अपनी बेटी कहा करते थे. इतना ही नहीं प्रियंका कपिल गुप्ता के दोनों बेटों को भाई दूज पर टीका भी किया करती थी. पति - पत्नी ने मिलकर प्रियंका को न केवल मौत के घाट उतारा, बल्कि उसके शव को दिल्ली से लगभग 150 किलोमीटर दूर जाकर फेंक दिया और अब उसे मारने के बाद उसकी बदनामी भी कर रहे हैं. ये बेहद गलत है. परिजनों कि बस एक ही मांग है कि प्रियंका के चारों हत्यारों को फांसी की सजा मिलनी चाहिए.

14 मार्च को घर से बैंक गई थी प्रियंका
प्रियंका की मां रेखा व पिता पंकज बहल का रो-रो कर बुरा हाल है. वह उस दिन को याद करते हैं जब आखिरी बार उनकी बेटी घर से निकली थी और फिर वापस नहीं लौटी. प्रियंका की मां रेखा और पिता पंकज बहल का कहना है कि प्रियंका 14 मार्च को घर से बैंक जाने के लिए निकली थी. उसने अपनी मां को कहा था कि वह शाम 4 - 4:30 तक वापस लौट आएगी, लेकिन जब प्रियंका 4 बजे तक वापस नहीं लौटी तो उसकी मां को थोड़ी चिंता हुई.

रेखा बहल ने प्रियंका को फोन करना शुरू किया, लेकिन उसका फोन स्विच ऑफ था. जब समय देर शाम 7:30 बजे का वक्त हो गया और प्रियंका वापस नहीं लौटी, तो रेखा ने अपने पति पंकज को इसकी जानकारी दी. जिसके बाद प्रियंका को ढूंढने का काम शुरू किया गया. लेकिन वह नहीं आई. प्रियंका कपिल गुप्ता के दोनों बच्चों को ट्यूशन पढ़ाती थी. कपिल गुप्ता से परिवार के काफी अच्छे रिश्ते बन चुके थे.

रेखा और पंकज बताते हैं कि प्रियंका कपिल के दोनों बेटों को भाई दूज का टीका करती थी. कपिल और उसकी पत्नी सुनैना प्रियंका को बेटी की तरह मानते थे. जब प्रियंका वापस नहीं लौटी तो कपिल को फोन करके भी पूछा गया, क्योंकि प्रियंका को घर से उसका बेटा ही अपनी स्कूटी पर लेकर गया था. लेकिन कपिल ने कहा कि उसे इस बात की जानकारी नहीं है कि प्रियंका कहां है. रात ज्यादा होने पर गांधीनगर थाने में प्रियंका की गुमशुदगी दर्ज करवा दी गई.

17 मार्च को राजस्थान के तातारपुर थाने से प्रियंका की मौत की जानकारी मिली
रेखा और पंकज बताते हैं कि वे 14 तारीख से ही अपनी बेटी की तलाश में लगे हुए थे. पूरा परिवार जिसमें पंकज के दो भाई और भाभी भी शामिल हैं, सभी प्रियंका को लेकर चिंतित थे. घर के सारे बच्चे भी उसकी तलाश में जुटे हुए थे. 17 मार्च को राजस्थान के भिवाड़ी में स्थित तातारपुर थाने की पुलिस से सूचना मिलती है कि एक लड़की की डेड बॉडी उनके इलाके में मिली है, जो तीन-चार दिन पुरानी प्रतीत होती है. शव सड़ी गली अवस्था मे था. परिवार तुरंत ही राजस्थान के लिए रवाना हो जाता है और फिर शव पर मौजूद कपड़ों से व प्रियंका की कलाई पर बंधे एक धागे से उसकी पहचान की जाती है. शव को देख कर परिवार बुरी तरह से टूट जाता है, लेकिन इससे भी ज्यादा धक्का तब लगता है, जब पुलिस परिवार को ये बताती है कि प्रियंका की हत्या के मामले में 4 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और इन लोगों के नाम कपिल गुप्ता और उसकी पत्नी सुनैना व इनकी दुकान पर काम करने वाले सचिन और राज किशोर हैं.

7 मार्च को हुई थी प्रियंका की शादी पक्की
प्रियंका के माता पिता का कहना है कि 7 मार्च को प्रियंका की शादी पक्की हुई थी और उसका रोका हुआ था. उस फंक्शन में भी कपिल गुप्ता अपनी पत्नी सुनैना और दोनों बच्चों के साथ आया था. दोनों ही प्रियंका को अपनी बेटी की तरह मानते थे और ये कहते थे कि प्रियंका का कन्यादान वही करेंगे. अब जब हमारे सामने प्रियंका की बदनामी वाली बातें आती है, तो हमें बहुत ठेस पहुंचती है. यह पति पत्नी मिलकर आखिर क्यों हमारी बेटी की हत्या करने के बाद भी उसे बदनाम करने में जुटे हुए हैं.

गिरफ्तारी से चंद घण्टे पहले तक कपिल गुप्ता व सुनैना प्रियंका के घर आते जाते रहे थे
प्रियंका के माता पिता, ताऊ-ताई व चाचा चाची का कहना है कि कपिल गुप्ता और उसकी पत्नी सुनैना, प्रियंका के गायब होने के बाद से लगातार परिवार के संपर्क में बने हुए थे. इतना ही नहीं वे लोग घर पर भी आए और पूरी सहानुभूति जताई. पति पत्नी ने पूरा प्रयास किया कि हमारा ध्यान भटका सके. कपिल बार-बार ये कहता रहा कि मैं भी प्रियंका की तलाश में जुटा हुआ हूं. जल्द ही उसको ढूंढ लेंगे. कभी वह कहता कि अगर फिरौती भी देनी पड़ी तो मैं फिरौती की रकम चुकाऊंगा. उसने ये भी कहा कि हो सकता है प्रियंका इस रिश्ते से खुश न हो और कहीं अपनी मर्जी से कहीं चली गई हो. वे लगातार हमारा ध्यान भटकाने का प्रयास करते रहे. 14 मार्च को जब हमने उसे फोन किया था और प्रियंका घर नहीं लौटी है, तो उसने कहा था कि मैं राजस्थान आया हुआ हूं और जल्दी वापस आपके पास लौटता हूँ.

मंगली का उपाय करने के दौरान प्रियंका का कन्यादान भी किया था कपिल और सुनैना ने
प्रियंका के परिजनों का कहना है कि प्रियंका को मांगलिक दोश था. इसलिए जनवरी में उसका उपाय कराते हुए शालिग्राम से विवाह करवाया गया था. उस विवाह में कपिल ने और उसकी पत्नी सुनैना ने प्रियंका का कन्यादान किया था.

हत्या की असल वजह को छुपा रहे हैं दोनों
प्रियंका के परिजनों का कहना है कि इस हत्या के पीछे कुछ और वजह है जिसे कपिल और सुनाना छुपा रहे हैं इतना ही नहीं कपिल का राजस्थान अक्सर आना-जाना भी रहता था और वह राजस्थान के इलाके से काफी अच्छी तरह वाकिफ भी है यही वजह भी है कि उसने प्रियंका की हत्या को अंजाम देने के बाद उसके शव को राजस्थान के इलाके में जाकर ठिकाने लगाया वह भी ऐसी जगह जो 2 जिलों के बीच में पढ़ता था, भिवाड़ी और अलवर. उसकी मंशा पहले से ही थी कि प्रियंका की हत्या करनी है और अब उसी असल वजह को छुपाने के लिए वह प्रियंका पर झूठे लांछन लगाते हुए उसकी बदनामी कर रहा है.

प्रियंका की ताई ने कहा, "प्रियंका की हत्या करने के बाद कपिल और उसकी पत्नी सुनैना ने शव को राजस्थान में ठिकाने लगाया. 14 मार्च को मैंने ही कपिल को फोन करके पूछा था कि प्रियंका कहां है? अगर कोई जानकारी है तो बता दो, लेकिन उसने मना कर दिया. वह दो-तीन दिन तक लगातार हमारे घर भी आया. हमारे पास सीसीटीवी फुटेज में भी है जिसमें आप देख सकते हैं कि 14 तारीख को ही दोनों हमारे घर भी आए हैं. वे लगातार हमें भटकाने की कोशिश करते रहे और अब एक लड़की को मरने के बाद भी बदनाम कर रहे हैं. वे झूठी कहानी गढ़ रहे हैं. हम अपनी बेटी के लिए इंसाफ चाहते हैं और चाहते हैं कि सभी हत्यारों को फांसी की सजा हो.

प्रियंका जिन बच्चों को फ्री पढ़ाती थी उनकी मां ने कहा, "प्रियंका की हत्या के बाद उसके बारे में जिस तरह की बातें की जा रही है, वह गलत है. प्रियंका मेरे दोनों बच्चों को फ्री ट्यूशन पढ़ाती थी. हमारी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है और वह हमेशा हमारे बच्चों की मदद के लिए आगे रहती थी. अब उसकी शादी होने वाली थी. तो उसने कहा था कि मैं 18 मार्च के बाद आपके बच्चों को नहीं पढ़ा पाऊंगी. लेकिन कहीं भी कभी आपको मेरी जरूरत होगी तो मैं तैयार हूं. क्या कोई गलत लड़की ऐसा व्यवहार कर सकती है? जिन भी लोगों ने उसकी हत्या की है, उन्हें सख्त से सख्त सजा मिलनी चाहिए.


Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta