दिल्ली-एनसीआर

एनसीआर नोएडा के विवादित टविन टॉवर को 28 अगस्त को गिराने की तैयारी ज़ोरो पर

Admin Delhi 1
16 Aug 2022 7:44 AM GMT
एनसीआर नोएडा के विवादित टविन टॉवर को 28 अगस्त को गिराने की तैयारी ज़ोरो पर
x

एनसीआर नॉएडा न्यूज़: नोएडा के सुपरटेक टविन टावर को धाराशायी करने की तैयारी लगभग पूरी कर ली गई है। इस टॉवर को 28 अगस्त के दिन जमीन में मिला दिया जाएगा। जिसके लिए पुलिस और प्रशासन ने पूरी समीक्षा करते हुए अपनी कमर कस ली है। बताया गया है कि सुपरटेक के टविन टावर को गिराने के लिए विशेष तौर पर हरियाणा के पलवल जिले से बारूद लाया गया है। शनिवार को नोएडा पुलिस पलवल से बारूद लेकर वापिस नोएडा पहुंची। फिलहाल इस ईमारत में बारूद लगाने का काम शुरू कर दिया गया है। अभी तक हरियाणा से बारूद की एक ही खेप पहुंची है। जिसे ईमारत में पूरी हिदायत और सुरक्षा के बीच लगाया जा रहा है। किसी भी अनहोनी से बचाव के लिए ईमारत तक जाने वाले रास्ते में बैरिकेटस लगा दिए गए हैं तथा वहां काफी संख्या में गार्डस भी तैनात किए गए हैं। इसके साथ ही समूचे यातायात को डायवर्ट कर दिया गया है।

ईमारत में भरा जा रहा है बारूद: पूरा विस्फोटक पहुंचने के बाद उसे टॉवर के पिल्लर में किए गए छेदों में भरना शुरू कर दिया गया है। ईमारत के सभी पिल्लर में ड्रिल किए गए हैं, ताकि उनमें बारूद भरा जा सके और फिलहाल इस काम को पूरी सुरक्षा के साथ अंजाम दिया जा रहा है। एडिफिस इंजीनियरिंग कंपनी को यह काम सौंपा गया है। कंपनी के करीब 46 कर्मचारी ड्रिल किए गए कॉलम में बारूद फिलिंग का काम कर रहे हैं। इस अवसर पर 16 विशेषज्ञों की टीम मौजूद रहेगी, जिनमें 10 भारतीय ओर 6 दक्षिण अफ्रीका के होंगे। बतााया गया है कि ईमारत को गिराने के लिए उसमें 9600 छेद किए गए हैं,जिसमें करीब 3700 किलो बारूद का उपयोग किया जाएगा।

28 अगस्त को ध्वस्त होगी ईमारत: यह प्रक्रिया 27 अगस्त तक पूरी कर ली जाएगी। इसके अगले ही दिन यानि कि 28 अगस्त को यह टावर ध्वस्त कर दिया जाएगा। जानकारी मिली है कि हरियाणा के पलवल से लगातार 14 दिनों तक प्रतिदिन करीब 250 किलो बारूद लाया जाएगा। इस अभियान के बाद बचे हुए बारूद को वापिस पलवल भेज दिया जाएगा। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर ही 28 अगस्त तक इस टॉवर को गिराने के आदेश दिए हैं। इस कार्य के लिए पूरी सतर्कता भी बरती जा रही है। टॉवर के आसपास रहने वाले परिवारों को शिफ्ट कर दिया जाएगा। संभवतय उन्हें होटल में रहना होगा और इसी के साथ सोसायटी में पार्किंग, पेड, पौधे और स्विमिंग पूल को धूल से बचाने के लिए भी पूरी व्यवस्था की जा रही है।

Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta