दिल्ली-एनसीआर

आज दिल्ली भाजपा अध्यक्ष के घर के बाहर कूड़ा डालेंगे आप कार्यकर्ता, पर ये है शर्त

Renuka Sahu
5 May 2022 1:35 AM GMT
AAP workers will throw garbage outside Delhi BJP Presidents house today, but this is the condition
x

फाइल फोटो 

आम आदमी पार्टी ने कहा है कि भाजपा की केंद्र सरकार की ओर से भुगतान नहीं मिलने के कारण कंपनियों ने दिल्ली के कई क्षेत्रों में कूड़ा उठाना बंद कर दिया।

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। आम आदमी पार्टी ने कहा है कि भाजपा की केंद्र सरकार की ओर से भुगतान नहीं मिलने के कारण कंपनियों ने दिल्ली के कई क्षेत्रों में कूड़ा उठाना बंद कर दिया। इतना ही नहीं, भुगतान नहीं मिलने के कारण जल्द ही सभी कंपनियां पूरी दिल्ली से कूड़ा उठाना बंद कर देंगी। आप नेताओं ने चेतावनी दी कि कूड़ा उठना शुरू नहीं होने की स्थिति में पार्टी कार्यकर्ता बृहस्पतिवार को प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष आदेश गुप्ता के घर के सामने कूड़ा डालेंगे।

आप नेता दुर्गेश पाठक ने बुधवार को पार्टी मुख्यालय में संवाददाताओं से कहा कि पिछले 15 सालों से भाजपा ने दिल्ली की व्यवस्था बिगाड़ने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। प्रधानमंत्री के स्वच्छता सर्वे में पूरे देश में दिल्ली 45वें स्थान पर आई थी।
पाठक ने कहा कि दिल्ली की जनता बहुत परेशान और नाराज है, सभी चाहते थे कि नगर निगम चुनाव हों और दिल्ली के हालात बदले, मगर भाजपा ने चुनाव स्थगित कर दिए और अब पूरी पार्टी भ्रष्टाचार पर उतारू हो चुकी है। शायद दिल्ली के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि भाजपा ने कूड़ा उठाने वाली कंपनियों को भी पैसा देना बंद कर दिया है। यह सारा पैसा भाजपा के नेता आपस में बांटकर खा रहे हैं।
उन्होंने कहा कि करोलबाग जोन के सात वार्डों में पिछले 10 दिनों से कूड़ा नहीं उठाया गया है। क्षेत्र की सभी कालोनियों में कूड़ा पड़ा हुआ है। लोग परेशान है और वे अपने घर से निकल नहीं पा रहे हैं। क्षेत्र से कूड़ा उठाने वाली मेट्रो वेस्ट प्राइवेट लिमिटेड नामक कंपनी ने आप विधायकों और कार्यकर्ताओं को उसका भुगतान नहीं किया जा रहा है। इस कारण कूड़ा उठाना बंद कर दिया गया है।
दुर्गेश पाठक ने कचरे के ढेर की कुछ तस्वीरें और कुछ दस्तावेज दिखाते हुए कहा कि दिल्ली के इतिहास में पहली बार कूड़ा उठाने वाली कंपनी को पैसा नहीं मिलने का मामला सामने आया है। नगर निगम एकीकरण के बाद केंद्र सरकार ने नोटिस निकाला था कि 'सरकार का मतलब केंद्र सरकार' है। इस कारण अब केंद्र सरकार की जिम्मेदारी बनती है कि इन कंपनियों का सारा भुगतान किया जाए जिससे दिल्ली में कूड़ा उठने का काम फिर से शुरू हो। अगर ऐसा नहीं होता है तो दिल्ली की स्थिति भयावह होने वाली है।
Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta