दिल्ली-एनसीआर

मंकीपॉक्स के मरीज के संपर्क में आए 13 लोग आइसोलेशन में

Admin Delhi 1
25 July 2022 5:03 AM GMT
मंकीपॉक्स के मरीज के संपर्क में आए 13 लोग आइसोलेशन में
x

दिल्ली न्यूज़: राजधानी में मंकीपॉक्स का पहला मामला रविवार को सामने आया। मरीज को एलएनजेपी अस्पताल के विशेष वार्ड में भर्ती किया गया है। इसके साथ देश में इस वायरस से पीड़ित मरीजों की संख्या चार हो गई है। इसके पहले तीन मामले केरल से सामने आ चुके हैं। पश्चिमी दिल्ली में रहने वाले एक 34 वर्षीय व्यक्ति के मंकीपॉक्स से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। यह व्यक्ति एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए कई दिन पहले मनाली गया था। वहां से लौटने के बाद करीब 4 जुलाई से उसकी तबियत खराब होने लगी। शुरू में उसे लगा कि मौसमी बुखार की वजह से वह परेशान है, लेकिन तीन दिनों के बाद जब उसके शरीर में दाने निकलने लगे तो उसने 11 जुलाई को पश्चिम विहार में एक चिकित्सक से दवाई ली। पांच दिनों के बाद भी जब आराम नहीं हुआ तो 16 जुलाई को उसने एक त्वचा रोग विशेषज्ञ को दिखाया। वहां से भी आराम नहीं होने पर पीड़ित ने जिला प्रशासन को सूचना दी और एलएनजेपी में दिखाने के लिए पहुंचा। यहां सैंपल लेकर जांच के लिए पुणे भेजा गया है। इस जांच में मंकीपॉक्स वायरस से संक्रमित होने की पुष्टी हुई।

संपर्क में आए 13 लोग आइसोलेशन में: अस्पताल प्रशासन ने मरीज के संपर्क में आए लोगों को सतर्क रहने के लिए कहा है। इसके साथ मरीज का इलाज कर चुके डॉक्टर, पत्नी, बड़ा भाई, माता-पिता व दोस्तों सहित 13 लोगों को आइसोलेट कर दिया गया है। इन सभी लोगों के स्वास्थ्य पर जिला प्रशासन नजर रख रहा है।


केंद्र ने की उच्च स्तरीय बैठक: केंद्र ने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के एक व्यक्ति के मंकीपॉक्स से संक्रमित पाए जाने के बाद रविवार को एक उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक की। स्वास्थ्य सेवा महानिदेशक (डीजीएचएस) अतुल गोयल ने देश में मंकीपॉक्स की स्थिति की समीक्षा की और राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र को मामलों की विस्तृत महामारी विज्ञान जांच करने का निर्देश दिया। बैठक में, राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन (एनएसीओ) ने पुरुषों के साथ यौन संबंध रखने वाले पुरुषों जैसे उच्च जोखिम वाले समूहों पर नजर रखने की आवश्यकता का जिक्र किया। एक आधिकारिक सूत्र ने कहा कि चूंकि एनएसीओ एक नोडल एजेंसी है जो एचआईवी के प्रसार को रोकने और यौन संचारित रोगों व प्रजनन अंगों के संक्रमण को नियंत्रित करने की दिशा में काम करती है, इसलिए इसे मंकीपॉक्स के उच्च जोखिम वाले समूहों के लिए दिशानिर्देश तैयार करने का निर्देश दिया गया है। बैठक में इस बात पर जोर दिया गया कि स्वास्थ्य केंद्र उन लोगों पर नजर रखें, जिन्होंने चकत्ते होने की शिकायत की है। उन लोगों की निगरानी करने को भी कहा गया है, जिन्होंने बीते 21 दिन में उस देश की यात्रा की है, जहां मंकीपॉक्स के मामलों की पुष्टि हुई है या इसके संदिग्ध मामले सामने आए हैं।

Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta