व्यापार

मोदी सरकार के लिए राहत की खबर, भारतीय अर्थव्यवस्था कोविड-19 से उभर रही है: विश्व बैंक

Renuka Sahu
14 Oct 2021 2:44 AM GMT
मोदी सरकार के लिए राहत की खबर, भारतीय अर्थव्यवस्था कोविड-19 से उभर रही है: विश्व बैंक
x

फाइल फोटो 

विश्व बैंक के अध्यक्ष डेविड मालपास ने कहा कि कोविड-19 महामारी की चपेट में आई भारतीय अर्थव्यवस्था अब संकट से उबरने की स्थिति में है और विश्व बैंक इसका स्वागत करता है.

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। विश्व बैंक (World Bank) के अध्यक्ष डेविड मालपास ने कहा कि कोविड-19 महामारी (COVID-19 pandemic) की चपेट में आई भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian economy) अब संकट से उबरने की स्थिति में है और विश्व बैंक इसका स्वागत करता है. मालपास ने यह भी कहा कि भारत संगठित क्षेत्र की अर्थव्यवस्था में अधिक लोगों को एकीकृत करने और लोगों की कमाई बढ़ाने की बड़ी चुनौतियों का सामना कर रहा है. भारत ने इस दिशा में कुछ प्रगति की है लेकिन यह पर्याप्त नहीं है.

मालपास ने कहा, भारतीयों को कोविड की लहर से बहुत नुकसान हुआ है और यह दुर्भाग्यपूर्ण है. उन्होंने टीकों के विशाल उत्पादन के साथ इससे निपटने की कोशिश की है और टीकाकरण के प्रयास में प्रगति हुई है. लेकिन हमें भारतीय अर्थव्यवस्था पर और विशेष रूप से असंगठित क्षेत्र पर जो प्रभाव पड़ा है, उसका पता लगाना होगा.
कोविड की ताजा लहर से पार पा लिया भारत
पिछले हफ्ते विश्व बैंक ने इस साल भारतीय अर्थव्यवस्था के 8.3 फीसदी की दर से बढ़ने का अनुमान लगाया था. मालपास ने एक सवाल के जवाब में कहा, भारतीय अर्थव्यवस्था ठीक हो रही है और हम इसका स्वागत करते हैं. इसने कोविड की ताजा लहर से पार पा लिया है. यह अच्छी बात है. लेकिन भारत, अन्य देशों की तरह, अब सप्लाई चेन में व्यवधान और दुनिया में बढ़ रही मुद्रास्फीति से प्रभावित हो रहा है.
FY22 में भारत में रहेगी 10% से ज्यादा की ग्रोथ
वहीं, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि देश में इस साल करीब डबल डिजिट (10 फीसदी से ज्यादा) की ग्रोथ रहेगी. और भारत सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में एक रहेगा. सीतारमण ने आगे कहा कि 2022 में, आर्थिक ग्रोथ 7.5-8.5 फीसदी की रेंज में रहेगी, जो अगले दशक में भी बनी रहेगी.
Harvard Kennedy स्कूल में बातचीत के दौरान वित्त मंत्री ने कहा कि भारत की ग्रोथ को देखें, तो इस साल ग्रोथ करीब डबल डिजिट में रहने की उम्मीद है. और यह दुनिया में सबसे ज्यादा होगी. और अगले साल के लिए, इस साल के आधार पर, ग्रोथ कहीं आठ फीसदी की रेंज में रहेगी.
वैश्विक अर्थव्यवस्था की स्थिति के बारे में पूछे जाने पर, वित्त मंत्री सीतारमण ने कहा कि वे नहीं सोचती हैं कि आपके पास पूरी दुनिया के लिए एक तस्वीर हो सकती है. उभरती हुई अर्थव्यवस्थाओं के तेजी से रिकवर करने की उम्मीद है और उनकी ग्रोथ अच्छी रहेगी. वे वैश्विक अर्थव्यवस्था को भी आगे खींचकर ले जाएगी.
उन्होंने कहा कि और उस में, कम से कम जो पिछले दिन और पिछले हफ्ते जो डेटा जारी किया गया है, वे कह सकती हैं कि इस साल भारत की ग्रोथ दुनिया में सबसे ज्यादा होगी. और यह निश्चित ही पिछले साल के कम बेस पर आधारित होगी. लेकिन यह अगले साल भी जारी रहेगी. और उसमें में भी हम सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में शामिल होंगे.


Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it