व्यापार

भारत का अप्रैल-जुलाई राजकोषीय घाटा बढ़कर 6.06 लाख करोड़ हो गया

Kunti Dhruw
31 Aug 2023 3:06 PM GMT
भारत का अप्रैल-जुलाई राजकोषीय घाटा बढ़कर 6.06 लाख करोड़ हो गया
x
लेखा महानियंत्रक (सीजीए) द्वारा गुरुवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, अप्रैल-जुलाई अवधि में सरकार का राजकोषीय घाटा बढ़कर 6.06 लाख करोड़ रुपये हो गया, जो अप्रैल-जून में 4.51 लाख करोड़ रुपये था।
इससे चालू वित्त वर्ष के पहले चार महीनों में राजकोषीय घाटा पूरे साल के लक्ष्य 17.87 लाख करोड़ रुपये का 33.9 प्रतिशत हो गया है।
अप्रैल-जुलाई 2022 के लिए राजकोषीय घाटा 2022-23 के लक्ष्य का 20.5 प्रतिशत था। जुलाई में मासिक राजकोषीय घाटा 1.54 लाख करोड़ रुपये था, जबकि पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान सरकार ने 11,040 करोड़ रुपये का राजकोषीय अधिशेष दर्ज किया था।
अप्रैल-जुलाई 2022 के लिए राजकोषीय घाटा 2022-23 के लक्ष्य का 20.5 प्रतिशत था। 2023-24 के लिए सरकार का राजकोषीय घाटा लक्ष्य सकल घरेलू उत्पाद का 5.9 प्रतिशत है, जो 2022-23 में सकल घरेलू उत्पाद के 6.4 प्रतिशत से कम है।
Next Story