व्यापार

लोन और EMI पर कैसे होगा फायदा या नुकसान

Khushboo Dhruw
20 Aug 2023 3:14 PM GMT
लोन और EMI पर कैसे होगा फायदा या नुकसान
x
भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने हाल ही में वित्तीय संस्थानों के लिए नए दिशानिर्देश जारी किए हैं, जिनका मुख्य उद्देश्य फ्लोटिंग-ब्याज दरों को निश्चित ब्याज दरों में बदलने की अनुमति देना है। इस नए कदम के माध्यम से, आरबीआई उधारकर्ताओं को उचित चैनलों के माध्यम से परिवर्तन की जानकारी प्रदान करने पर विचार कर रहा है। नए दिशानिर्देश उधारकर्ताओं को स्पष्टता प्रदान करेंगे कि ऋण अवधि, ब्याज दर और ईएमआई कैसे प्रभावित हो सकते हैं।
क्या हैं नये दिशानिर्देश?
आरबीआई के मुताबिक, वित्तीय संस्थानों को लोन लेने वाले कर्जदारों को स्पष्ट रूप से बताना होगा कि फ्लोटिंग से फिक्स्ड ब्याज दर पर स्विच करने पर कितना शुल्क लिया जाएगा। ब्याज दरों के रीसेट के समय, उधारकर्ताओं के पास अपनी बोर्ड-अनुमोदित नीति के अनुसार एक निश्चित दर पर स्विच करने का विकल्प होगा।
नीति में यह भी उल्लेख होना चाहिए कि उधारकर्ता कितनी बार ब्याज दरें बदल सकता है और उसके पास क्या विकल्प होंगे। इसके अलावा, उधारकर्ताओं को पूरे ऋण को एक बार में चुकाने या ऋण की पूरी अवधि के दौरान किसी भी समय इसके कुछ हिस्से का पूर्व भुगतान करने की सुविधा भी दी जाएगी।
फ्लोटिंग ब्याज दरें अस्थिर होती हैं और बाजार में उथल-पुथल के आधार पर बदलती रहती हैं। यह ब्याज दर ऋणदाता की आधार दर पर निर्भर करती है और बाजार की स्थितियों के आधार पर बदल सकती है। इसके विरुद्ध, आरबीआई ने यह सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक कदम उठाए हैं कि उधारकर्ताओं को निश्चित ब्याज दर में स्थिरता का अनुभव हो। निश्चित ब्याज दर का लाभ यह है कि यह बदलती नहीं है, चाहे बाजार का रुझान कुछ भी हो।
आरबीआई के इस कदम से कर्जदारों को उनकी वित्तीय स्थिति के अनुसार अधिक विकल्प मिलेंगे और उन्हें ऋण ब्याज दरों में बदलाव के बारे में स्वतंत्र रूप से सूचित किया जाएगा। इस नई गाइडलाइन से उन कर्जदारों को आसानी से कर्ज लेने में मदद मिलेगी जो ऊंची ब्याज दरों के दबाव में हैं।
आरबीआई के नए दिशानिर्देशों से कर्जदारों को ऋण चुनने में अधिक स्वतंत्रता मिलेगी और उन्हें ब्याज दरों में बदलाव के बारे में सटीक जानकारी मिलेगी। यह उधारकर्ताओं के लिए एक सुविधाजनक विकल्प है जो उनकी वित्तीय जरूरतों को पूरी तरह से पूरा करेगा। आरबीआई के इस कदम से कर्जदारों का विश्वास बढ़ेगा और उन्हें अपने वित्तीय लक्ष्य पूरा करने में मदद मिलेगी।
यदि आप ऋण लेने पर विचार कर रहे हैं, तो आरबीआई के नए दिशानिर्देशों के बारे में जानकारी प्राप्त करें और उधारकर्ताओं को उनके वित्तीय विकल्पों को समझने में मदद करें। यह आपके ऋण चयन को सही दिशा में ले जाने में मदद करेगा और आपको एक आरामदायक वित्तीय भविष्य की ओर प्रेरित करेगा।
Next Story