व्यापार

सरकार का आदेश, अब सोया प्रॉडक्ट्स पर भी होगा ISI मार्क

Bhumika Sahu
11 March 2022 2:19 AM GMT
सरकार का आदेश, अब सोया प्रॉडक्ट्स पर भी होगा ISI मार्क
x
सोयाबीन से बनने वाले अलग-अलग उत्पादों की स्वीकार्यता लोगों के बीच लगातार बढ़ रही है. ऐसी स्थिति में इन उत्पादों के मानक को सुनिश्चित करना जरूरी है.

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। भारतीय मानक ब्यूरो (Bureau of Indian Standards) ने विनिर्माताओं को सोया उत्पादों (Soy Products) पर आईएसआई के निशान (ISI Mark) का इस्तेमाल करने को कहा है. आम लोगों के बीच सोया उत्पादों के बढ़ते इस्तेमाल को देखते हुए ऐसा किया गया है. सरकारी प्रमाणन एजेंसी बीआईएस (BIS) ने एक आधिकारिक बयान में कहा कि सोया उत्पाद विनिर्माता उससे गुणवत्ता का प्रमाण लेकर अपने उत्पादों पर आईएसआई के निशान का इस्तेमाल करना शुरू करें. BIS ने सोया उत्पादों के संबंध में भारतीय मानक विषय पर आयोजित एक वेबिनार में कहा कि सोयाबीन से बनने वाले अलग-अलग उत्पादों की स्वीकार्यता लोगों के बीच लगातार बढ़ रही है. ऐसी स्थिति में इन उत्पादों के मानक को सुनिश्चित करना जरूरी है.

बीआईएस ने कहा कि सोया उत्पादों की गुणवत्ता सुनिश्चित करने के अलावा इनके भौतिक, रासायनिक एवं जीवाणु-संबंधी मानकों को बनाए रखने के लिए परीक्षण पद्धतियों को मानकीकृत करना जरूरी है. इसने पहले ही सोया आटा, सोया मिल्क (Soy Milk), सोया नट्स (Soy Nuggets) और सोया बटर (Soy Butter) जैसे उत्पादों के लिए भारतीय मानक जारी किए हुए हैं. नए सोया उत्पादों के लिए मानक तैयार करने की प्रक्रिया अभी जारी है.
नए सोया उत्पादों के लिए तैयार हो रहे हैं मानक
ISI मार्क 1955 से भारत में औद्योगिक उत्पादों के लिए एक स्टैंडर्ड कम्पलायंस मार्क है. मार्क प्रमाणित करता है कि कोई उत्पाद भारतीय मानक ब्यूरो (BIS), भारत के राष्ट्रीय मानक निकाय द्वारा विकसित एक भारतीय मानक (IS) के अनुरूप है.
सोया उत्पादों पर भारतीय मानकों के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए आयोजित एक वेबिनार में बीआईएस ने कहा कि सोयाबीन के उपयोग को बनावट वाले वेजिटेबल प्रोटीन (जिसे सोया बड़ी या सोया नगेट्स के रूप में जाना जाता है), सोया दूध, टोफू, सोया दही, के रूप में स्वीकृति मिल रही है.
इन सोया उत्पादों की गुणवत्ता और सुरक्षा को बनाए रखने के लिए भौतिक, रासायनिक और सूक्ष्मजीवविज्ञानी मापदंडों और उनके परीक्षण के तरीकों को मानकीकृत किया जाता है.
बयान में कहा गया है कि सोया उत्पादों पर भारतीय मानकों के कार्यान्वयन और प्रमाणन से सोया उत्पादों को भारतीय आहार में एकीकृत करने में मदद मिलेगी. इस प्रकार, सोया उत्पादों की बढ़ी हुई गुणवत्ता और सुरक्षा से उत्पादक को बेहतर कीमतों का आदेश मिलेगा और अंतिम उपभोक्ताओं को सुरक्षित उत्पाद प्राप्त होंगे, जिससे समग्र सार्वजनिक स्वास्थ्य में वृद्धि होगी.
बीआईएस ने सोया उत्पादों जैसे वसा सोया आटा, सोया दूध, सोया नट्स, सोया मक्खन और सोया अमरखंड (Soy Amrakhand) के लिए सात भारतीय मानक प्रकाशित किए हैं. एजेंसी नए सोया उत्पादों के लिए मानक विकसित करने की प्रक्रिया में है.


Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta