व्यापार

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कोयला संकट की रिपोर्ट को बताया निराधार, जानिए

Bhumika Sahu
14 Oct 2021 2:10 AM GMT
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कोयला संकट की रिपोर्ट को बताया निराधार, जानिए
x
क्या देश से कोयला खत्म होने की कगार पर है. इन तमाम सवालों के बीच केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कोयले की कमी को लेकर बयान दिया है.

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। पिछले कुछ दिनों से देश में कोयला चर्चा का बड़ा विषय बना हुआ है. देश में कोयले की कमी की खबर आम आदमी तक पहुंच गई है. इसके बाद चर्चा चली है कि क्या वाकई देश में बिजली का संकट गहरा जाएगा. क्या देश से कोयला खत्म होने की कगार पर है. इन तमाम सवालों के बीच केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कोयले की कमी को लेकर बयान दिया है. उन्होंने कहा कि देश में किसी चीज की कोई कमी नहीं है और कोयला संकट की खबरें निराधार हैं.

उन्होंने कहा कि विद्युत मंत्री आर के सिंह ने दो दिन पहले ही स्पष्ट किया है कि कोयला संकट या अन्य माल की कमी की खबरें पूरी तरह निराधार हैं. सीतारमण ने मंगलवार को हार्वर्ड केनेडी स्कूल में कहा, 'यह पूरी तरह निराधार है, किसी चीज की कमी नहीं है. ऊर्जा मंत्री ने बताया कि हर विद्युत उत्पादन संयंत्र में अगले चार दिनों का कोयला उनके परिसर में पूरी तरह उपलब्ध है और आपूर्ति श्रृंखला बिल्कुल भी नहीं टूटी है.'
कोयले की कोई कमी नहीं
मोसावर-रहमानी सेंटर फॉर बिजनेस एंड गवर्नमेंट द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान केंद्रीय वित्त मंत्री सीतारमण ने हार्वर्ड के प्रोफेसर लॉरेंस समर्स के ऊर्जा में कमी और भारत में कोयले की कमी से संबंधित खबरों के बारे में पूछे जाने पर यह जवाब दिया. उन्होंने कहा, 'ऐसी कोई कमी नहीं होगी जिससे आपूर्ति प्रभावित हो सकती है. इस तरह से हम देश में बिजली की स्थिति का ध्यान रख रहे हैं. अब हम एक ऊर्जा अधिशेष वाले देश हैं.'
कोयला मंत्री का दावा
बीते दिन कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा कि ताप बिजली संयंत्रों को कोयले की आपूर्ति मंगलवार को सामूहिक रूप से 20 लाख टन को पार कर गई. उन्होंने दावा किया कि बिजलीघरों को कोयले की आपूर्ति बढ़ाई गई है. देश के विभिन्न बिजली संयंत्र इस समय कोयले की कमी से जूझ रहे हैं.
जोशी ने बुधवार को ट्वीट किया, ''मुझे यह बात साझा करते हुए खुशी हो रही है कि सभी स्रोतों से ताप बिजली घरों को कोयले की आपूर्ति मंगलवार को 20 लाख टन से अधिक हो गई है. हम बिजली संयंत्रों में कोयले का पर्याप्त भंडार सुनिश्चित करने के लिए कोयले की आपूर्ति बढ़ा रहे हैं.''
कोल इंडिया के एक अधिकारी ने बताया कि पिछले दो दिन के दौरान बिजली स्टेशनों को कोयले की आपूर्ति पहले ही 16.2 लाख टन को पार कर गई. वहीं, कोयले का कुल उठाव 18.8 लाख टन हो गया है. जबकि इसका मासिक औसत 17.5 लाख टन है. इसके अलावा कोल इंडिया ने पिछले दो दिन के दौरान अपना उत्पादन भी बढ़ाकर 16 लाख टन किया है. कंपनी ने कहा है कि दशहरा के बाद उसका उत्पादन और बढ़ेगा, क्योंकि श्रमिक उस समय छुट्टियों के बाद काम पर लौटेंगे.


Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it