व्यापार

अनुपालन रिपोर्ट : WhatsApp ने अगस्त में 20 लाख से अधिक अकाउंट पर लगाया बैन

Rani Sahu
2 Oct 2021 7:55 AM GMT
अनुपालन रिपोर्ट : WhatsApp ने अगस्त में 20 लाख से अधिक अकाउंट पर लगाया बैन
x
वाट्सऐप की मंथली कंप्लायंस (मासिक अनुपालन) रिपोर्ट से पता चलता है

वाट्सऐप की मंथली कंप्लायंस (मासिक अनुपालन) रिपोर्ट से पता चलता है कि मैसेजिंग ऐप ने अगस्त में भारत में 20 लाख से अधिक अकाउंट पर बैन लगा दिया था. मंथली कंप्लायंस रिपोर्ट से यह भी पता चला है कि अगस्त के दौरान वाट्सऐप को 420 शिकायत रिपोर्ट मिली थी. एक भारतीय अकाउंट की पहचान +91 फोन नंबर के जरिए की जाती है. 20,70,000 अकाउंट पर बैन लगाने के की खास वजहों में ऑटोमेटेड या बल्क मैसेजेस का अनऑफीशियल उपयोग शामिल है.

वाट्सऐप कंप्लायंस डेटा से पता चला है कि अगस्त के दौरान उसे अकाउंट सपोर्ट (105), बैन अपील (222), दूसरे सपोर्ट (34), प्रोडक्ट सपोर्ट (42) और सेफ्टी (17) में 420 यूजर रिपोर्ट मिलीं. हालांकि, 421 रिपोर्ट्स में से, वाट्सऐप ने 41 अकाउंट के खिलाफ रेमेडिकल कार्रवाई की. वाट्सऐप ने अपने सपोर्ट पेज में खुलासा किया कि जब उसे शिकायत (grievance) चैनल के माध्यम से यूजर की शिकायतें मिलती हैं, तो मैसेजिंग ऐप प्लेटफॉर्म पर हार्मफुल बिहेवियर को रोकने के लिए टूल और रिसोर्सेज को इस्तेमाल करता है.
WhatsApp का टारगेट है अकाउंट को सिक्योर रखना
वाट्सऐप के स्पोक्सपर्सन ने एक बयान में कहा, "इस यूजर-सिक्योरिटी रिपोर्ट में यूजर की शिकायतों की डिटेल है और वाट्सऐप द्वारा संबंधित कार्रवाई की गई है, साथ ही हमारे प्लेटफॉर्म पर दुरुपयोग से निपटने के लिए वाट्सऐप की अपनी निवारक कार्रवाइयां (preventive actions) भी हैं. हमारा ध्यान अकाउंट को बड़े पैमाने पर हानिकारक या अनचाहे मैसेज भेजने से रोक रहा है. हम अधिक या असामान्य मैसेज भेजने वाले इन अकाउंट की पहचान करने के लिए एडवांस कैपेबिलिटी बनाए रखते हैं. अधिकांश यूजर जो हमारे पास पहुंचते हैं, उनका टारगेट या तो उन पर बैन लगाने या प्रोडक्ट या अकाउंट सपोर्ट तक पहुंचने के लिए अपने अकाउंट को रिस्टोर करने का टारगेट है."
भारत में ऑटोमेटेड या बल्क मैसेजिंग में शामिल 95 प्रतिशत से अधिक अकाउंट पर लगा बैन
इससे पहले, वाट्सऐप ने खुलासा किया था कि उसने छत्तीस दिनों में 30 लाख से अधिक अकाउंट पर बैन लगा दिया था. ऑनलाइन दुरुपयोग को रोकने और यूजर्स को प्लेटफॉर्म पर सिक्योर रखने के लिए अकाउंट को 16 जून से 31 जुलाई के बीच बैन कर दिया गया था. वाट्सऐप ने शिकायत चैनलों के माध्यम से मिली रिपोर्ट्स और शिकायतों के आधार पर उल्लंघन करने वाले अकाउंट के खिलाफ कार्रवाई की. वाट्सऐप उन अकाउंट का रिकॉर्ड रखता है जिनमें मैसेजेस की हाई या अबनॉर्मल रेट होता है और भारत, दुनिया भर में इस तरह के दुरुपयोग की कोशिश करने वाले लाखों अकाउंट को बैन करता है. भारत में ऑटोमेटेड या बल्क मैसेजिंग में शामिल 95 प्रतिशत से अधिक अकाउंट पर बैन लगा दिया गया है.
वाट्सऐप की रिपोर्ट में कहा गया है, "किसी अकाउंट का इस्तेमाल गलत तरीकों के लिए किया जा रहा है, इसका पता तीन स्टेज पर लगाया जाता है: रजिस्ट्रेशन के दौरान, मैसेज के दौरान और निगेटिव रिएक्शन के जवाब में, जो हमें यूजर रिपोर्ट और ब्लॉक के रूप में होती है. एक्सपर्ट्स की एक टीम इs सिस्टम को बेहतर बनाने में हमारी मदद करती है."


Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it