Top
व्यापार

बायजूस ने एपिक का किया अधिग्रहण, भारत के बाद अमेरिका की स्थिति किया मजबूत

Bhumika Sahu
22 July 2021 3:18 AM GMT
बायजूस ने एपिक का किया अधिग्रहण, भारत के बाद अमेरिका की स्थिति किया मजबूत
x
ऑनलाइन शिक्षा प्रणाली को एक नए मुकाम पर पहुंचाने ने बायजूस का अहम योगदान है. कंपनी अपनी सुविधाओं के विस्तार के लिए कई कंपनियों का अधिग्रहण कर रही है. अभी उसने एपिक के साथ करार किया है.

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। ऑनलाइन एजुकेशन को बढ़ावा देने वाली कंपनी बायजूस (Byju's) अब भारत के अलावा अमेरिका में भी अपना दबदबा कायम करेगी. इसी मकसद से कंपनी ने डिजिटल प्लेटफॉर्म एपिक (Epic) का करीब 3,729.8 करोड़ रुपये में अधिग्रहण किया है. बायजूस उत्तरी अमेरिकी बाजार (north US Market) में अपनी स्थिति को बेहतर बनाने के लिए एक अरब डॉलर निवेश करेगी. कंपनी का मानना है कि इससे बच्चों के लिए डिजिटल रूप से पढ़ना आसान हो जाएगा. इससे पहले बायजूस ने कुछ ही महीने पहले करीब एक अरब डॉलर में आकाश एजुकेशनल सर्विसेज का अधिग्रहण किया था.

कंपनी की ओर से बयान जारी कर बताया कि 12 साल और उससे कम उम्र के बच्चों के लिये किताबें पढ़ने का डिजिटल प्लेटफॉर्म (digital platform) एपिक का 50 करोड़ डॉलर (करीब 3,729.8 करोड़ रुपये) में अधिग्रहण किया गया है. इसके जरिए बायजूस अपनी सेवाएं एपिक के मौजूदा ग्लोबल यूजर्स को उपलब्ध करा सकेगी. इनमें 20 लाख से अधिक शिक्षक और 5 करोड़ से अधिक बच्चे शामिल हैं.
40 हजार से ज्यादा है किताबों का कलेक्शन
एपिक ग्लोबल स्तर पर डिजिटल स्टडीज के लिए एक बेहतर प्लेटफॉर्म है. इसमें दुनिया के 250 से अधिक सर्वश्रेष्ठ प्रकाशकों की 40,000 से अधिक किताबों, ऑडियो बुक्स और वीडियो का कलेक्शन है. इसने शिक्षकों के लिये अपनी सेवा मुफ्त रखी है. कोरोना (Corona) की महामारी के चलते भारत समेत दुनिया के विभिन्न देशों में शिक्षा प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में तेजी से बदलाव हुए हैं. बच्चे अब ऑनलाइन पढ़ाई कर रहे हैं. यही वजह है कि बायजूस जैसे डिजिटल प्लेटफॉर्म ने तेजी से विकास किया है. बायजूस ने पिछले साल अप्रैल से करीब 1.5 अरब डॉलर कंपनी के विस्तार के लिए जुटाए हैं.
2015 में हुई थी कंपनी की शुरुआत
बायजूस की शुरुआत 2015 में हुई थी. अभी वैश्विक स्तर पर 10 करोड़ से अधिक छात्र-छात्राएं उसकी सेवाओं का उपयोग कर रहे हैं. कंपनी लगातार अपनी सेवाओं के विस्तार के लिए अलग-अलग कंपनियों का अधिग्रहण कर रही है. इससे पहले उसने ट्यूटर विस्टा और एजु राइट से 2017 में और साल 2019 में ओस्मो का अधिग्रहण किया था. पिछले साल, कंपनी ने 30 करोड़ डॉलर में कोडिंग प्रशिक्षण मंच व्हाइटहैट जूनियर खरीदा था.


Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it