विश्व

क्या बीमार हैं रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन?, जानिए इस पर क्‍या कहा

Neha
13 Oct 2021 6:24 AM GMT
क्या बीमार हैं रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन?, जानिए इस पर क्‍या कहा
x
इस दौरान करीब 100,000 लोगों की जान कोरोना वायरस की वजह से गई है.

रूस (Russia) के राष्‍ट्रपति व्‍लादीमिर पुतिन (Vladimir Putin) ने कहा है कि उन्‍हें जुकाम है और वो कोविड-19 संक्रमति नहीं हैं. पुतिन ने यह स्‍पष्‍टीकरण उस समय दिया जब लाइव टेलीकास्‍ट हो रही अधिकारियों की मीटिंग के दौरान बार-बार खांस रहे थे.

सोमवार को अपने सिक्‍योरिटी काउंसिल के साथ वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग पर हुई मीटिंग के बीच राष्‍ट्रपति पुतिन ने कहा, 'चिंता मत करिए, सबकुछ ठीक है. रोजाना कोविड-19 के लिए टेस्‍ट हो रहा है और ये सिर्फ कोरोना वायरस के लिए ही नहीं है बल्कि हर इनफेक्‍शन के लिए टेस्‍ट्स किए जा रहे हैं और सबकुछ ठीक है.'
मीटिंग में खांसते रहे पुतिन
सोमवार को हुए ब्रॉडकास्‍ट की कोई जानकारी नहीं दी गई थी. इससे पहले पुतिन ने कृषि पर चर्चा करने के लिए अधिकारियों के साथ मीटिंग की थी. इस दौरान भी वो लगातार खांस रहे थे. संसद की ऊपरी सदन की प्रवक्‍ता वेलैंटिना मतवियेंको ने स‍िक्‍योरिटी काउंसिल की मीटिंग के दौरान पुतिन को बीच में रोका. इस दौरान वो राष्‍ट्रपति के स्‍वास्‍थ्‍य के बारे में जानना चाहती थीं. उन्‍होंने पुतिन से कहा, 'हर कोई चिंतित है.'
पुतिन ने इस पर जवाब दिया, 'मैं ठंडी हवा में बाहर था और इधर-उधर घूम रहा था लेकिन कुछ भी ऐसा नहीं हुआ है जिससे डर लगे.' उन्‍होंने आगे कहा, 'मैं जानता हूं कि आप सभी लोग वैक्‍सीनेटेड हैं और दोबार वैक्‍सीन लगवाना मत भूलिए.' पुतिन का इशारा कोविड-19 के खिलाफ बूस्‍टर शॉट्स की तरफ था. रूस के राष्‍ट्रपति पुतिन ने पिछले ही हफ्ते अपना 69वां जन्‍मदिन मनाया है. पिछले महीने उन्‍होंने उस समय खुद को आइसोलेट कर लिया था जब उनके सुरक्षा घेरे के एक दर्जन से ज्‍यादा लोग कोविड-19 संक्रमण की चपेट में आए थे.
रूस में कोविड का कहर
29 सितंबर को तुर्की के राष्‍ट्रपति रेसेप तैयप अर्दोगान के साथ हुई मीटिंग में उन्‍हें दो हफ्तों के आइसोलेशन के बाद देखा गया था. इसके बाद से ही वो लगातार मीटिंग्‍स कर रहे हैं. हालांकि ये सभी मीटिंग वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग पर ही हो रही हैं. रूस इस समय दुनिया का वो देश है जहां पर कोविड-19 के केसेज में तेजी से इजाफा देखा जा रहा है. अधिकारियों ने केसेज की संख्या में वृद्धि के लिए वैक्‍सीनेशनल के लिए निराशा को जिम्‍मेदार ठहराया है.
अगस्‍त महीने तक रूस में कोविड की वजह से मृतकों का आंकड़ा 400,000 से ज्‍यादा पहुंच गया था. हाल ही में देश के सांख्यिकी विभाग की तरफ से आंकड़ें जारी किए गए हैं. इन आंकड़ों के मुताबिक जुलाई और अगस्‍त दो सबसे खतरनाक महीने रहे हैं. इस दौरान करीब 100,000 लोगों की जान कोरोना वायरस की वजह से गई है.

Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it