विश्व

भारतीय मूल की पत्रकार को मिला पुलित्जर पुरस्कार, चीन के हिरासत कैंपों का किया था खुलासा

Neha
12 Jun 2021 7:03 AM GMT
भारतीय मूल की पत्रकार को मिला पुलित्जर पुरस्कार, चीन के हिरासत कैंपों का किया था खुलासा
x
जो कोलंबिया यूनिवर्सिटी के ग्रेजुएट स्कूल ऑफ जर्नलिज्म में पुलित्जर बोर्ड द्वारा दिया जाता है।

भारत मूल की पत्रकार मेघा राजगोपालन (Megha Rajagopalan) को अमेरिका के टॉप जर्नलिज्म सम्मान 'पुलित्जर (Pulitzer)' से नवाजा गया है। दरअसल मेघा ने सैटेलाइट टेक्नोलॉजी की मदद से चीन का कुरूप चेहरा सार्वजनिक किया । उन्होंने अपनी रिपोर्ट में उन उइगर मुसलमानों की दशा और हालात का विवरण दिया जो चीन के हिरासत केंद्रों में बंद हैं।

पुलित्जर बोर्ड ने इस अवार्ड का ऐलान शुक्रवार को किया। मेघा के साथ इस सम्मान से इंटरनेट मीडिया बजफीड न्यूज के दो पत्रकार भी नवाजे गए हैं। मेघा के अलावा भारतीय मूल के पत्रकार नील बेदी (Neil Bedi) को स्थानीय रिपोर्टिंग कैटेगरी में पुलित्जर सम्मान से नवाजा गया है। उन्होंने टंपा बे टाइम्स (Tampa Bay Times) के लिए एक संपादक के साथ इंवेस्टीगेटिव स्टोरी तैयार की थी जिसमें फ्लोरिडा में कानून प्रवर्तन अधिकारियों द्वारा बच्चों की तस्करी को लेकर लिखा था। पुलित्जर अवार्ड का यह 105वां साल है
जो कोलंबिया यूनिवर्सिटी के ग्रेजुएट स्कूल ऑफ जर्नलिज्म में पुलित्जर बोर्ड द्वारा दिया जाता है।




Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it