धर्म-अध्यात्म

हिंदू धर्म में तुलसी पौधे को पूज्यनीय माना गया है क्यों

Ekta Sahu
26 Jan 2022 12:37 PM GMT
हिंदू धर्म में तुलसी पौधे को पूज्यनीय माना गया है क्यों
x
तुलसी के पौधे को हिंदू धर्म में पूज्यनीय माना गया है. लोग इस पौधे को घर में लगाकर इसे जल और दीप अर्पित करते हैं.

जनता से रिश्ता वेबडेस्क | तुलसी के पौधे को हिंदू धर्म में पूज्यनीय माना गया है. लोग इस पौधे को घर में लगाकर इसे जल और दीप अर्पित करते हैं. कहा जाता है कि तुलसी परिवार की तमाम विपदाओं को हर लेती हैं. यहां जानिए तुलसी के पौधे के 5 विशेष गुणों के बारे में.

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार तुलसी भगवान विष्णु को अतिप्रिय हैं. उनके बगैर श्रीहरि का पूजन कभी संपन्न नहीं होता. कहा जाता है कि जिस घर में तुलसी का पौधा मौजूद होता है, वहां वास्तुदोष का प्रभाव नहीं होता है और सुख समृद्धि बनी रहती है.
ग्रहण से पहले खाने की चीजों में तुलसी का पत्ता डाल दिया जाता है, इससे खाने पर ग्रहण की हानिकारक किरणों का प्रभाव नहीं होता और खाना शुद्ध बना रहता है. ऐसा इसलिए क्योंकि तुलसी में पारा मौजूद होता है. पारे पर किसी भी तरह की किरणों का कोई असर नहीं होता.
तुलसी औषधीय गुणों से भरपूर होती है. इसका इस्तेमाल सर्दी-जुकाम, खांसी, दांतों के रोग और श्वास सम्बंधी रोगों को दूर करने के लिए किया जाता है. तुलसी संक्रमण से लड़ने के लिए भी उपयोगी मानी जाती है.
कहा जाता है कि घर बनाते समय नींव में घड़े में हल्दी से रंगे कपड़े में तुलसी की जड़ रख दी जाए तो उस घर पर बिजली गिरने का डर नहीं होता.
तुलसी का छोटा सा पौधा 24 घंटे ऑक्सीजन प्रदान करता है. ये एक बेहतरीन एयर प्यूरीफायर होता है. जहां ये लगा होता है, वहां आसपास ऑक्सीजन की प्रचुरता बनी रहती है और वातावरण स्वच्छ होता है. कहा जाता है अगर कोई व्यक्ति नियमित रूप से इस पौधे की सेवा करे तो उसे कभी चर्म रोग नहीं होता.


Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta