नहीं पड़ेगी महंगे शैंपू की जरूरत अगर करेंगे या योगासन, बनाएंगे बालों को मजबूत । जनता से रिश्ता

जनता से रिश्ता वेबडेस्क।  झड़ते बालों की समस्या आज किस इंसान को नहीं हैं? धूप, प्रदूषण, गलत खान-पान और मौसम में आने आए बदलाव के कारण आज हर उम्र के लोगों को बालों की समस्या से जूझना पड़ रहा है। मगर ऐसा में सवाल उठता है कि इस प्रॉबल्म पर काबू कैसे पाया जाए? तो सबसे पहले तो अपना खान-पान सही रखें और कैमिकल्स युक्त हेयर प्रॉडक्ट्स का कम इस्तेमाल करें। इसके अलावा अपनी डेली रूटीन में बदलाव लाए और योगासन को अहमियत दें। योग एक ऐसा जरिया है जो न सिर्फ आपकी सेहत में सुधार रखता है बल्कि त्वचा व बालों की खूबसूरती बढ़ाने में भी मदद करता है। बात योग की करें तो कुछ ऐसे योगासन भी है जिन्हें रोजाना करने से बाल मजबूत होंगे और साथ भी बिना किसी शैंपू या हेयर प्रॉडक्ट्स के बालों का टूटकर झड़ना भी बंद हो जाएगा। 
आइए जानते हैं आखिर कौन से हैं वो 5 जादुई आसान।  


वज्रासन (Vajrasana)

इस आसन को करने से पाचन तंत्र सही रहता है साथ ही ब्लड सर्कुलेशन भी ठीक होता है। जब यह दोनों चीजें ठीक से अपना काम करती हैं तो बाल खुद-ब-खुद झड़ना बंद हो जाते हैं। इसलिए इस आसन को करने के लिए पैरों के बल बैठ जाएं। शरीर का भार एड़ियों पर और कमर सीधी रखें और गहरी सांस लें। इस प्रक्रिया को कम से कम रोजना 3 मिनट के लिए दोहराएं। 

PunjabKesari

अधोमुखश्वानासन (Adho mukha svanasana)

झड़ते बालों को एक कारण तनाव भी होता है जिसको दूर करने के लिए अधोमुखश्वानासन काफी फायदेमंद है। जब आप स्ट्रेस फ्री होंगे तो आपके बाल भी मजबूत रहेंगे। इसलिए इस आसन को करने के लिए घुटनों के बल बैठ जाएं। फिर अपने हाथों को जमीन पर रखें। अब हाथों पैरों को V आकार में फैला कर शरीर को ऊपर उठाएं और रीढ़ की हड्डी को एकदम सीधी करें। इस आसन को दिन कम से कम 1 मिनट के लिए जरूर करें। 

PunjabKesari

भुजंगासन (Bhujangasana)

बालों को झड़ने से रोकने के लिए यह आसन भी काफी फायदेमंद है। भुजंगासन करने के लिए पेट के बल लेट जाएं। दोनों हाथों को कंधों के बराबर रखें। अब हाथों पर जोर देते हुए शरीर को ऊपर उठाएं। अब कम से कम 30 सेकंड के लिए इस पोजीशन में रहें। इस आसन को रोजाना 3 बार दोहराएं। 

PunjabKesari

पश्चिमोत्तानासन (Paschimottanasana)

इस आसन से न सिर्फ बालों की प्रॉबल्म दूर होती हैं बल्कि स्त्रियों के योनिदोश, मासिक धर्म संबंधी विकार भी कम होते है। इसलिए इसे अपनी रूटीन में शामिल जरूर करें। आसन करने के लिए जमीन पर दोनों पैरों को एकदम सीधे फैलाकर बैठ जाएं। इसके साथ ही गर्दन, सिर और रीढ़ की हड्डी को भी सीधा रखें। फिर दोनों हथेलियों को दोनों घुटनों पर रखकर अपने सिर को आगे की ओर झुकाएं और अपने घुटनों को बिना मोड़े हाथों की उंगलियों से पैरों की उंगलियों को छूने की कोशिश करें। इस आसन को 3 से 4 बार दोहराएं।

PunjabKesari

पादांगुष्ठासन(Padangusthasana)

यह मुद्रा रक्तचाप को नियंत्रण में रखती है। इस आसन को करने से मस्तिष्क में रक्त परिसंचरण बढ़ता है जिससे बालों की जड़े मजबूत होती है। आसन को करने के लिए ताड़ासन की मुद्रा में खड़े हो जाएं। अपने दोनों हाथों और रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें और अपने दोनों पैरों के बीच कम से कम 6 इंच की बनाए। अब सांस को छोड़ते हुए अपने शरीर के ऊपरी हिस्से को सीधा रखते हुए कूल्हों के जोड़ से नीचे की ओर झुकें। अब माथे को पैरों से लगाने के प्रयास करें और दोनों हाथों से पैर के अंगूठे को पकड़ लें। 

PunjabKesari