Top
COVID-19

संयुक्त राष्ट्र ने दी चेतावनी- 'सभी को मिले वैक्सीन, नहीं तो फिर से फैल सकता है कोरोना वायरस'

Janta se Rishta
5 Sep 2020 3:06 PM GMT
संयुक्त राष्ट्र ने दी चेतावनी- सभी को मिले वैक्सीन, नहीं तो फिर से फैल सकता है कोरोना वायरस
x

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। संयुक्त राष्ट्र. संयुक्त राष्ट्र (United Nations) महासभा के अध्यक्ष तज्जानी मुहम्मद बांदे ने चेतावनी देते हुए कहा कि कोविड-19 का टीका (Covid-19 Vaccine) सभी जरूरतमंद के लिए उपलब्ध होना चाहिए क्योंकि एक भी देश के छूटने पर संक्रमण का संकट फिर से उत्पन्न हो जाएगा. उन्होंने कहा कि समावेश कोविड-19 के टीके की अहम कुंजी है क्योंकि बिना समावेश जो पहले ही पीछे रह गए हैं, वे आगे भी रह जाएंगे और हम उस संदर्भ में शांति की गांरटी नहीं दे पाएंगे. बांदे ने बृहस्पतिवार को एसोसिएटेड प्रेस को दिए साक्षात्कार में उन बयानों पर टिप्पणी कर रहे थे जिसमें टीके का विकास कर रही कंपनियों एवं देशों द्वारा इसे सभी के लिए उपलब्ध कराने की बात कही गई है. उन्होंने इसे महत्वपूर्ण करार दिया.

बांदे ने कहा, 'मेरा मानना है कि टीका उपलब्ध होने के बाद इसके खरीदने की सामर्थ्य एवं पहुंच सुनिश्चित करने के लिए नियम तय होंगे और समझौता होगा.' महासभा अध्यक्ष ने कहा कि यह विडम्बना है कि महामारी के शुरुआती आकलन कि विकासशील देश सबसे अधिक प्रभावित होंगे गलत साबित हुए हैं. तथ्य यह है कि प्रमुख विकसित देशों के मुकाबले अफ्रीका सहित विकासशील देशों में मृत्युदर और संक्रमण की दर कहीं कम है. उन्होंने कहा, 'यह बिलकुल मौलिक सवाल है. गरीब हो या अमीर देश, विकासशील हो या विकसित, यह मायने रखता है कि बीमारी का मुकाबला कैसे करते हैं, चाहे आप गरीब हो या अमीर.'

चार देशों को खतरा
संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस (Antonio Guterres) ने चेतावनी देते हुए कहा कि संघर्ष प्रभावित कांगो, यमन, दक्षिणी सूडान और पूर्वोत्तर नाइजीरिया (Nigeria) में अकाल पड़ने और खाद्य असुरक्षा पैदा होने का खतरा है और इससे लाखों लोगों की जिंदगी खतरे में हैं. संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को भेजे नोट-जिसकी प्रति शुक्रवार को एसोसिटेड प्रेस को प्राप्त हुई-में संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने कहा कि चार देश दुनिया के खाद्य संकट रैंकिग में सबसे ऊपर है. उन्होंने यह जानकारी खाद्य संकट और हालिया खाद्य सुरक्षा विश्लेषण-2020 के हवाले से दी और कहा कि इससे निपटने के लिए बहुत कम कोष मुहैया कराया गया है.

'कार्रवाई की जरूरत'
गुतारेस ने कहा, 'अब कार्रवाई करने की जरूरत है.' उन्होंने कहा, 'वर्षों से सशस्त्र संघर्ष से घिरे डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो, यमन, पूर्वोत्तर नाइजीरिया और दक्षिणी सूडान में एक बार फिर खाद्य सुरक्षा पर गंभीर संकट है और वे संभावित अकाल का सामना करने की कगार पर है.' संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने कहा कि सोमालिया, बुर्किना फासो और अफगानिस्तान सहित अन्य संघर्ष ग्रस्त देशों के अहम संकेतों में गिरावट आ रही है.

https://jantaserishta.com/news/revealed-before-fatf-meeting-hizbul-chief-salahuddins-connection-with-isi-found-evidence/

Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it