भारत

पार्टी में मचे घमासान को लेकर डैमेज कंट्रोल में जुटा आलाकमान...राहुल गाँधी ने गुलाम नबी आज़ाद को फ़ोन करके दिलाया भरोसा, कहा- आपकी चिंताएं दूर की जाएंगी...

Janta se Rishta
29 Aug 2020 3:02 AM GMT
पार्टी में मचे घमासान को लेकर डैमेज कंट्रोल में जुटा आलाकमान...राहुल गाँधी ने गुलाम नबी आज़ाद को फ़ोन करके दिलाया भरोसा, कहा- आपकी चिंताएं दूर की जाएंगी...
x

जनता से रिश्ता वेबडेस्क, नई दिल्‍ली । कांग्रेस की कार्यसमिति (Congress) की हाल ही में हुई बैठक में हुआ घमासान अभी थमा नहीं है. कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्‍व इस दिशा में डैमेज कंट्रोल में जुटा है. इसके तहत कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने पार्टी के वरिष्‍ठ नेता गुलाम नबी आजाद (Ghulam nabi azad) को फोन किया है. सूत्रों के अनुसार राहुल गांधी ने गुलाम नबी आजाद को भरोसा दिलाया है कि उनकी सभी चिंताओं को दूर किया जाएगा. इसके साथ ही उनकी ओर से यह भी कहा गया है कि कांग्रेस के नए अध्‍यक्ष के लिए चुनाव भी कराएं जाएंगे.

सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस की कार्यसमिति की बैठक के बाद राहुल गांधी ने यह दूसरी बार गुलाम नबी आजाद से बात की है. इससे पहले बैठक के बाद वह कपिल सिब्‍बल और गुलाम नबी आजाद से फोन पर बात कर चुके थे. राहुल गांधी ने गुलाम नबी आजाद को यह भी भरोसा दिया है कि संगठन के अन्‍य चुनाव भी जल्‍द ही कराए जाएंगे. वहीं आजाद ने इस दौरान राहुल गांधी से कहा है, 'मैं कांग्रेस को और मजबूत करना चाहता हूं. मेरा ऐसा कोई मकसद नहीं है कि गांधी परिवार को चुनौती दी जाए या निरादर किया जाए.'

बता दें कि गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा, मनीष तिवारी और शशि थरूर समेत कांग्रेस के 23 बड़े नेताओं ने कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक के पहले सोनिया गांधी को पत्र लिखकर कांग्रेस के संगठन में व्यापक बदलाव, सामूहिक नेतृत्व और पूर्णकालिक अध्यक्ष की मांग की थी. इसको लेकर बड़ा विवाद खड़ा हुआ है. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने हाल के दिनों में संसद से जुड़ी जिन समितियों का गठन किया और जिन नेताओं को प्रमुख जिम्मेदारियां दीं, उससे ये संकेत मिलते हैं कि पत्र विवाद से जुड़े नेताओं को तवज्जो नहीं दी गई और उन्हें एक तरह से संदेश देने का प्रयास भी किया गया.

राज्यसभा की पांच सदस्यीय समिति में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद और उप नेता आनंद शर्मा को स्थान मिला है, हालांकि इसमें राहुल गांधी के करीबी माने जाने वाले संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल और वरिष्ठ नेता अहमद पटेल एवं रमेश को भी शामिल किया गया है. लोकसभा में दो बार के सांसद गौरव गोगोई को उप नेता की जिम्मेदारी दी गई है जिसे पूर्व केंद्रीय मंत्रियों मनीष तिवारी और शशि थरूर के लिए एक संदेश के तौर पर देखा जा रहा है.

Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it