Tennis: एंडी मरे लेंगे संन्‍यास, भावुक होकर बोले-ऑस्‍ट्रेलियन ओपन हो सकता हैं आखिरी टूर्नामेंट

जनता से रिश्ता वेबडेस्क : – दिग्गज खिलाड़ी एंडी मरे (Andy Murray) जल्‍द ही टेनिस से संन्‍यास ले सकते हैं. एंडी मरे ने हाल ही में एक संवाददाता सम्‍मेलन में इसके संकेत दिए. तीन ग्रैंडस्‍लैम खिताब जीत चुके इस खिलाड़ी ने शुक्रवार को भावुक होकर कहा कि कूल्हे की सर्जरी के बाद दर्द के कारण अगले सप्ताह से शुरू हो रहा ऑस्ट्रेलियाई ओपन (Australian Open) उनके करियर का आखिरी टूर्नामेंट हो सकता है. विश्‍व रैंकिंग में नंबर एक खिलाड़ी रहे मरे यहां संवाददाता सम्मेलन में भावुक हो गये और उनकी आंखें नम हो गईं. उन्होंने कहा कि दर्द कई बार असहनीय हो जाता है.स्कॉटलैंड (ब्रिटेन) के 31 साल के इस खिलाडी ने कहा, ‘मैं कमियों के साथ खेल सकता हूं, लेकिन कमियां और दर्द मुझे प्रतियोगिता या प्रशिक्षण का लुत्फ नहीं उठाने दे रहे.’उन्होंने कहा कि वह अपने घरेलू ग्रैंडस्लैम विंबलडन के साथ करियर को खत्म करना चाहते हैं. हालांकि उन्होंने माना कि उनके लिए तब तक खेलना शायद मुश्किल होगा.’मरे (Andy Murray)  को 77 साल में विंबलडन जीतने वाले पहले ब्रिटिश खिलाड़ी के तौर पर जाना जाता है जो इस खेल के स्वर्णिम काल में रोजर फेडरर, नोवाक जोकोविच और राफेल नडाल जैसे खिलाडियों के साथ शीर्ष पर पहुंचे.

उन्होंने कहा, ‘मैं विंबलडन खेलकर संन्यास लेना चाहता हूं, लेकिन मैं इस बात को लेकर आश्वस्त नहीं हूं कि तब तक खेल पाऊंगा. मैं लंबे समय से संघर्ष कर रहा हूं. मैं इस बात को लेकर आश्वस्त नहीं हूं कि और चार-पांच महीने खेल पाऊंगा.’पिछले सत्र में मरे ने सितंबर में शेनझेन में अपना आखिरी टूर्नामेंट खेला था. इस सत्र में ब्रिस्बेन में वह दूसरे दौर में हारकर बाहर हो गए. ऑस्ट्रेलियाई ओपन में वह पहले दौर में 22वीं वरीयता प्राप्त रोबर्टो बतिस्ता आगुत के खिलाफ खेलेंगे. उन्होंने कहा, ‘मैं इस मैच में खेलूंगा, मैं एक स्तर तक खेल सकता हूं लेकिन उस स्तर तक नहीं जैसा खेलकर मैं खुश रह सकूं.’ मरे (Andy Murray) ने विंबलडन में 2013 में जीत दर्ज कर इस टूर्नामेंट में खिताब के ब्रिटेन के 77 साल के सूखे को खत्म किया था. उनसे पहले फ्रेड पैरी ने यह खिताब जीता था. मरे ने 2016 में भी इस खिताब को दोबारा अपने नाम किया था. इससे पहले उन्होंने 2012 में अमेरिकी ओपन फाइनल में चार घंटे 54 मिनट तक चले मुकाबले में जोकोविच को हराकर 1936 में खिताब जीतने वाले पैरी की बराबरी की थी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here