छत्तीसगढ़

सूदखोरों का बढ़ता आतंक: छत्तीसगढ़ के बसना निवासी किसान ने राज्यपाल से मांगी इच्छा मृत्यु

Janta se Rishta
25 Aug 2020 5:09 PM GMT
सूदखोरों का बढ़ता आतंक: छत्तीसगढ़ के बसना निवासी किसान ने राज्यपाल से मांगी इच्छा मृत्यु
x

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। रायपुर। सूदखोरों से परेशान एक किसान बेदलाल साव ने राज्यपाल से इच्छा मृत्यु की मांग की हैं। पीड़ित किसान ने जनता से रिश्ता को बताया कि उसने अपने खेती के लिए तीन अलग-अलग पैसे वाले लोगों से ब्याज की शर्त पर पैसे कर्ज लिए थे और उन लोगों को सूत समेत उन लोगों को वापस भी कर दिए थे बावजूद सूदखोर लोग उस किसान को प्रताड़ित किये जा रहे हैं। एक सूदखोर ने बिना किसान की अनुमति के उसका ट्रेक्टर बेच दिया और दूसरे ने फ़र्जी दस्तावेज के जरिए चेक बाऊंस के केस में फ़सा दिया। जिससे परेशान होकर किसान बेदलाल साव ने राज्यपाल से इच्छा मृत्यु की मांग की हैं। तीनों सूदखोरों के ठगी करने का तरीका भी अगल था और किसान की मज़बूरी का फायदा सूदखोरों ने बखूबी से उठाया।

सूदखोर कैसे बिछाते हैं जाल : सूदखोर अक्सर मजबूर लोगों की ताक में रहते है, जब किसी को पैसे की बेहद जरूरत पड़ती है तो वो सूदखोर के पास जाता है, शुरू में पांच प्रतिशत ब्याज तय होता है, लेकिन अगर ब्याज की रकम वक्त पर नहीं चुकाई गई तो यही ब्याज 30 प्रतिशत तक पहुंच जाता है। ऐसा ही मामला बेदलाल के साथ हुआ हैं। जिसमें बेदलाल ने एक सूदखोर से कुछ रुपए उधार लिये थे। बेदलाल के मुताबिक वो मूलधन से 10 गुना ज्यादा चुका चुके हैं लेकिन आज भी उन्हें सूदखोर परेशान कर रहे हैं।

खुदकुशी की वजह : पैसे देने से पहले अक्सर सूदखोर ब्लैंक चेक पर साइन करवा लेते हैं कई बार वो जमीन भी लिखवा लेते हैं। वक्त पर पैसे न आने पर सूदखोर सामाजिक बेइज्जती करने की धमकी देते हैं, चेक बाउंस होने पर जेल भिजवाने की धमकी देते हैं, अक्सर दबंगों से कर्जदार को धमकाया भी जाता है। ऐसे में कर्ज लेने वाले शख्स को आत्महत्या ही एक रास्ता नजर आता है। सूदखोरों के चंगुल में फंस चुके किसान बेदलाल साव ने बताया कि सूदखोर मनमर्जी का ब्‍याज वसूल लेने के बाद भी पैसों की धमकी देकर जूते केस में फसांते हैं।

थाने से लेकर मुख्यमंत्री तक को सुनाई अपनी व्यथा : किसान ने अपने बसना गावं के सम्बंधित थाने से लेकर मुख्यमंत्री का भी दरवाजा खटकाया और जब कहीं इस किसान को न्याय नहीं मिला तब उसने राज्यपाल से इच्छा मृत्यु की मांग की। और किसान ने ये भी बताया कि उसने अपने क्षेत्र के थाने से लेकर मुख्यमंत्री तक को शिकायत दी हैं और कही से उसे न्याय की उम्मीद नहीं मिली। किसान ने परेशान होकर मुख्यमंत्री के निवास के सामने ही आत्मदाह करने का भी फैसला ले लिया था मगर उसी वक़्त बसना पुलिस ने उसे गिरफ़्तार कर लिया हैं।

ठगी का लगाया आरोप : किसान बलदेव साव ने अपने बयान में जाब्ता से रिश्ता को बताया कि उसने अपने सारे पैसे और लेन-देन कागज़ी कार्यवाही के साथ किये थे। एक सूदखोर भारत लाल साहू ने किसान को फर्जी चेक बाऊंस के मामले में फसा दिया। किसान ने इस बात की भी शिकायत सम्बंधित थाने में जाकर की थी मगर वहां भी कोई सुनवाई नहीं हुई बिना बयान लिए ही पीड़ित किसान को न्यायालय भेज दिया गया।

सूदखोरों का बढ़ता आतंक : सूदखोर अपने ब्याज के पैसों को वसूलने के लिए किसी भी हद तक जाते हैं और हर बार मजबूर होकर लोगों को आत्महत्या का कर लेते हैं। सूदखोर अपने दिए ब्याज के कर्जों पर लोगों को ठगते हैं और उनसे भारी मात्रा में पैसे ऐंठते हैं। जिससे उनका आतंक बढ़ता ही जा रहा हैं। सूद पर रुपया उधार लेने वाले जरूरतमंद लोगों को कर्ज लेने की कीमत अपनी जान देकर चुकानी पड़़ रही है। सूद पर कुछ हजार रुपए का कर्ज देकर सूदखोर, लोगों को इतना भयभीत कर देते हैं कि उन्हें अपनी महीने भर की कमाई का बड़ा हिस्सा चुकाना पड़ता है। ऐसे में गृहस्थी की गाड़ी लड़खड़ाने लगती है और सूदखाेरों से भयभीत कर्जदार खुदकुशी पर मजबूर हो जाते हैं। सूदखोर माफिया पहले तो लोगों को भारी ब्याज पर कर्ज देतें है, और फिर उसे वसूलने के लिए परिवार के लोगों को डराते धमकाते और अवैध तरिके अपनाते है।

https://jantaserishta.com/news/in-chhattisgarh-principal-secretary-to-governor-sonamani-bora-turns-out-to-be-corona-positive-tweeting-information-himself/

https://jantaserishta.com/news/chhattisgarh-married-woman-along-with-boyfriend-committed-murderous-attack-on-ex-husband-know-what-is-the-whole-matter/

https://jantaserishta.com/news/1145-new-corona-patients-identified-in-chhattisgarh-today-364-patients-included-in-raipur/

https://jantaserishta.com/news/important-news-see-yesterdays-biggest-news-day-and-day-including-chhattisgarh-on-one-list-single-click/

Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta