छत्तीसगढ़

रायपुर : सटोरियों के खिलाफ एसएसपी की वक्रदृष्टि, सात दबोचे गए

Janta se Rishta
10 Sep 2020 5:46 AM GMT
रायपुर : सटोरियों के खिलाफ एसएसपी की वक्रदृष्टि, सात दबोचे गए
x

रायपुर (जसेरि)। राजधानी में धड़ल्ले से चल रहे सट्टेबाजी को पुलिस कप्तान अजय यादव ने गंभीरता से लिया है। कोरोना संकटकाल में शहरभर में सट्टा-पट्टी की पर्ची काटकर रोज लाखों रुपये बटोर रहे सटोरियों को दबोचने के लिए कप्तान के निर्देश दिए जाने के बाद पुलिस ने कई अड्डों पर दबिश दी। मौके से सात सटोरिए पकड़े गए। कोरोना संक्रमण के बीच राजधानी रायपुर में एक बार फिर सटोरिए सक्रिय हो गए हैं। शहर का ऐसा कोई इलाका नहीं बचा है, जहां सट्टेबाज और गांजा बेचने वाले सक्रिय न हों। मुजगहन, तिल्दा नेवरा, मंदिर हसौद में भी यह काम धड़ल्ले से हो रहा है। कप्तान के निर्देश के बाद तेलीबांधा थाना पुलिस ने ऐसे ही तीन सटोरियों को गिरफ्तार किया है। पकड़ गए आरोपियों से नगदी, पट्टी (कागजों में लिखे नंबर) और एक डायरी बरामद हुई है। डायरी में कई लोगों के नाम और नंबर मिलने के बाद इसकी जांच की जा रही हैं। तेलीबांधा पुलिस थाना प्रभारी आरके साहू ने बताया कि श्यामनगर इलाके से पुलिस ने तीन सटोरियों को गिरफ्तार किया है। पकड़ गए सटोरियों में अमर आहूजा, धर्मो उर्फ धर्मेंद्र पोहानी और सुरेश खेमानी शामिल हैं। शुरुआती जांच में पता चला कि इलाके के हर गली-मोहल्लों में ये सट्टा खिलवाते हैं। सटोरियों के निशाने पर अब स्कूली छात्र भी आ रहे हैं।
सटोरियों के लिए विशेष टीम: एसएसपी अजय यादव ने बताया कि गली-मोहल्लों में चल रहे सट्टे में छोटे तबके के लोग और नाबालिग बच्चे जाते हैं। पढऩे-लिखने वाले छात्रों को भी वे निशाना बना रहे हैं। सटोरियों के पास हमेशा जमावड़ा लगा रहता है। इसे देखते हुए पुलिस की विशेष टीम बनाई गई है। ये टीमें शहरभर में सटोरियों को पकडऩे के लिए लगातार छापामार कार्रवाई करेगी।

Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta