Top
विश्व

ऑटिस्टिक लड़को को पुलिस ने बेवजह मारी गोली, मां ने मदद के लिए 911 इमरजेंसी पर किया था कॉल...जानें पूरा मामला

Janta se Rishta
9 Sep 2020 11:09 AM GMT
ऑटिस्टिक लड़को को पुलिस ने बेवजह मारी गोली, मां ने मदद के लिए 911 इमरजेंसी पर किया था कॉल...जानें पूरा मामला
x

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। गोल्डन बार्टन ने इस उम्मीद में 911 इमरजेंसी नंबर डायल किया कि उसके 13 साल के बच्चे को अस्पताल में भर्ती कर दिया जाएगा, जो एस्परजर सिंड्रोम से जूझ रहा था और जिसे मानसिक परेशानी भी थी। लेकिन इसके बजाय पुलिस ने लिंडन कैमरन को गोली मार दी।

बार्टन ने बताया कि बच्चे के पास कोई हथियार नहीं था और पुलिस ने भी कहा कि उसे घटना वाले इलाके में कोई हथियार नहीं मिला है। बार्टन ने एक मीडिया चैनल को दिए गए इंटरव्यू में रोती आंखों से बताया कि वो छोटा बच्चा था, जो मानसिक परेशानी से जूझ रहा था।
सॉल्ट लेक सिटी के मेयर ने कहा कि इस मामले में कार्रवाई जल्द की जाएगी। मेयर एरिन मेंडनहॉल ने एक बयान में कहा कि परिस्थिति चाहे कोई भी हो, शुक्रवार की रात को जो हुआ वो हादसा था। उन्होंने लिखा कि मैं उम्मीद करता हूं कि इस मामले में तेजी से जांच होगी और पारदर्शिता के साथ जांच की जाएगी।

स्थानीय ऑटिज्म अधिवक्ताओं ने भी गोली मारने को लेकर चिंता जाहिर की है और कहा है कि पुलिस को मानसिक हालात से जूझ रहे मरीजों के साथ कैसे पेश आना है, इसको सीखना चाहिए। 13 साल के बच्चे की मां गोल्डन बार्टन ने लिखा कि उनका बेटा दूसरों की मदद करने के बारे में सोचता था, उसे वीडियो गेम्स, चार पहिया गाड़ी काफी पसंद थे।

एक साल के बाद बार्टन काम करने घर से बाहर निकली थीं और उन्होंने 911 नंबर पर मदद के लिए कॉल की थी ताकि उनके बेटे को अस्पताल में भर्ती किया जा सके। उनका बेटा मानसिक रूप से बीमार था। जब पुलिस आई तो बार्टन ने पुलिस को बताया कि कैमरन के पास कोई हथियार नहीं है, उसे बस अस्पताल लेकर जाना है।

बार्टन ने पुलिस को बताया कि उनके बेटे के पास कोई हथियार नहीं है, उसे दौरे पड़े हैं और शायद इसी वजह से वो चीख और चिल्ला रहा है। पुलिस ने बार्टन से कहा कि वो घर के बाहर रहे और पुलिस ने घर में प्रवेश किया। बार्टन ने बताया कि पांच मिनट बाद ही उन्होंने सुना कि पुलिस ने कैमरन को नीचे बैठने के लिए कहा और तभी गोली की आवाज सुनाई पड़ी।

पुलिस ने इस पर कहा कि एक पुलिस अधिकारी को लगा कि शायद बच्चे के पास कोई हथियार है, इसके बाद कैमरन पैदल अपने घर में अंदर की ओर भाग गया और पुलिस अधिकारी ने उस पर गोली चला दी। उस जगह से कोई हथियार नहीं मिला और सॉल्ट लेक सिटी पुलिस ने इस मामले को बाहरी जांचकर्ताओं कौ सौंप दिया।

बार्टन ने कहा कि गोली के बाद उसके बेटे कैमरन को हथकड़ी पहना कर ले जाया जा रहा था लेकिन पुलिस ने यह नहीं बताया कि उसका बेटा जिंदा है या नहीं। बार्टन ने कहा कि वो अभी तक नहीं समझ पाई है कि पुलिस ने उसके बेटे पर गोली आखिरकार क्यों चलाई?

https://jantaserishta.com/news/chhattisgarh-corona-bomb-exploded-in-sihawa-police-station-7-jawans-including-two-chief-constables-turned-out-to-be-corona-positive/

Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it