बढ़ती बेरोजगारी से चिंतित हैं देश के लोग, सरकार पर अधिकांश लोगों ने जताया भरोसा । जनता से रिश्ता

file pic

जनता से रिश्ता वेबडेस्क।  भारत के आर्थिक विकास में गिरावट ने पूरी दुनिया का ध्यान आकर्षित किया है. भारतीय अर्थव्यवस्था के बिगड़ते प्रदर्शन से लोग भी चिंतित हैं, हालांकि, मोदी सरकार में उनका भरोसा अब भी बना हुआ है. जनवरी राउंड के ‘मूड ऑफ द नेशन’ सर्वे में सामने आया है कि लगभग 60 प्रतिशत भारतीयों का अर्थव्यवस्था पर दृष्टिकोण नकारात्मक है. यह सर्वे गुरुवार को रिलीज हुआ है.

यह सर्वेक्षण 12,141 लोगों पर किया गया. सर्वेक्षण में शामिल लोगों में से सिर्फ 29 प्रतिशत का मानना है कि अर्थव्यवस्था का प्रदर्शन अच्छा है और चिंता की कोई बात नहीं है. इसके उलट ऐसे लोगों की संख्या अधिक है जो यह मानते हैं कि अर्थव्यवस्था का प्रदर्शन धीमा या खराब है.

सर्वे में शामिल लगभग 32 प्रतिशत लोगों का मानना है कि अर्थव्यवस्था आगे बढ़ रही है लेकिन बीते वर्षों की तुलना में इसकी गति धीमी है . 18 प्रतिशत का मानना है कि अर्थव्यवस्था बिल्कुल भी नहीं बढ़ रही है जबकि 10 प्रतिशत लोगों का मानना है कि अर्थव्यवस्था नीचे की ओर जा रही है. बाकी 11 प्रतिशत लोगों की कोई राय नहीं है.

सबसे बड़ी चिंता बेरोजगारी

यद्यपि सरकार देश में बेरोजगारी की समस्या से इनकार कर रही है, लेकिन ‘मूड ऑफ द नेशन’ सर्वे दिखाता है कि बेरोजगारी की समस्या भारतीयों की सबसे बड़ी चिंता है. सर्वे में शामिल 32 फीसदी लोगों का मानना है कि वे सबसे ज्यादा बेरोजगारी से चिंतित हैं. 15 फीसदी लोग किसानों के संकट को चिंता का विषय मानते हैं. 14 फीसदी लोग महंगाई, 12 फीसदी लोग भ्रष्टाचार और 10 फीसदी लोग आर्थिक मंदी को सबसे बड़ी समस्या मानते हैं.

यह सर्वे कहता है कि देश के युवा बेरोजगारी की स्थिति से सबसे ज्यादा चिंतित हैं. 18-24 वर्ष आयु वर्ग के 38 प्रतिशत लोग सबसे ज्यादा बेरोजगारी को लेकर चिंतित हैं. 25-30 वर्ष आयु वर्ग के 33 प्रतिशत लोगों की भी सबसे बड़ी चिंता बेरोजगारी है. लेकिन ज्यादा आयु वर्ग के लोगों में यह प्रतिशत घट जाता है.

जनवरी की शुरुआत में जारी यूनाइटेड नेशंस वर्ल्ड इकोनॉमिक सिचुएशन एंड प्रॉस्पेक्टस (WESP) रिपोर्ट में कहा गया है कि दक्षिण एशिया की युवा आबादी बढ़ती बेरोजगारी से जूझ रही है. रिपोर्ट के मुताबिक, “पूरे (दक्षिण एशिया) क्षेत्र में सबसे ज्यादा संघर्ष करने वालों में युवा हैं. उदाहरण के लिए अफगानिस्तान, बांग्लादेश, पाकिस्तान और श्रीलंका में, 30 प्रतिशत से अधिक युवा शिक्षा, रोजगार या प्रशिक्षण से दूर हैं. भारत में यह आंकड़ा 40 प्रतिशत है.”

वित्त मंत्री की लोकप्रियता

सर्वे में शामिल अधिकांश लोगों ने गिरती अर्थव्यवस्था के बावजूद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण पर भरोसा जताया है. लगभग 39 प्रतिशत लोगों का मानना है कि आर्थिक मंदी से निपटने के लिए सीतारमण ने अच्छा काम किया है. 16 प्रतिशत ने कहा कि सीतारमण आर्थिक मंदी को संभालने के लिए कड़ी मेहनत कर रही हैं और हमें उन पर कोई फैसला देने से पहले उन्हें कुछ और समय देना चाहिए. केवल 30 प्रतिशत लोगों का मानना है कि वित्त मंत्री आर्थिक मंदी को संभालने में विफल रही हैं.

स्वरोजगार श्रेणी को छोड़कर लगभग सभी व्यावसायिक श्रेणियों के लोगों ने निर्मला सीतारमण को आर्थिक मंदी से निपटने के लिए अच्छी रेटिंग दी है.

एनडीए की छवि

सर्वे के आंकड़े कहते हैं कि भाजपा की अगुवाई वाली एनडीए सरकार की अर्थव्यवस्था सुधारने की कोशिशों ने पार्टी की छवि को भी धक्का लगा है. आंकड़ों के मुताबिक, ऐसा मानने वाले लोगों की संख्या काफी बढ़ गई जो यह मानते हैं कि अर्थव्यवस्था संभालने के मामले में मौजूदा सरकार यूपीए के मुकाबले बदतर है.

हालांकि सर्वे में शामिल लोगों में से करीब आधे लोगों ने कहा कि एनडीए सरकार अर्थव्यवस्था को यूपीए सरकार की तुलना में बेहतर तरीके से संभाल रही है, लेकिन इसके उलट राय रखने वालों का प्रतिशत काफी बढ़ गया है. 2019 का लोकसभा संपन्न होने के बाद अगस्त में 60 फीसदी लोगों का मानना था कि एनडीए सरकार अर्थव्यवस्था को अच्छी तरह संभाल रही है, जनवरी 2020 तक ऐसा मानने वालों की संख्या घटकर 50 फीसदी हो गई है.