CAA के खिलाफ ओम बिड़ला ने प्रस्ताव पर यूरोपीय संसद को लिखा पत्र, पुनर्विचार की अपील| जनता से रिश्ता

फाइल पिक

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला ने यूरोपियन यूनियन को पत्र लिखा है. उन्होंने नागरिकता संशोधन कानून (CAA)के खिलाफ प्रस्ताव पर यूरोपीय संसद के अध्यक्ष डेविड मारिया को सोमवार को पत्र लिखा. ओम बिड़ला ने ईयू संसद के अध्यक्ष से कहा कि एक विधान मंडल का दूसरे विधान मंडल पर फैसला देना अनुचित है, इस चलन का निहित स्वार्थों द्वारा दुरूपयोग किया जा सकता है. पत्र में ओम बिड़ला ने कहा है कि अंतर-संसदीय यूनियन के सदस्य होने के नाते हमें अन्य विधानमंडलों की संप्रभु प्रक्रियाओं का सम्मान करना चाहिए. पत्र में लोकसभा स्पीकर ने सीएए पर बताया कि यह पड़ोसी देशों में धार्मिक प्रताड़ना के शिकार हुए लोगों को आसानी से नागरिकता देने के लिए है, न की किसी की नागरिकता छीनने के लिए. इसे भारतीय संसद के दोनों सदनों में चर्चा के बाद पास किया गया है. पत्र में आगे लिखा है कि इंटर पार्ल्यामेंटरी यूनियन का सदस्य होने के नाते, हमें एक दूसरे की संप्रभ प्रक्रिया का सम्मान करना चाहिए, खासकर लोकतंत्र में.