नासा को मिला लोहे का भंडार…इसे बेचने पर धरती के हर व्यक्ति को मिलेंगे 9621 करोड़ |जनता से रिश्ता

FILE PIC

जनता से रिश्ता वेबडेस्क।  अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने एक ऐसा एस्टेरॉयड (छोटा तारा) खोजा है जो पूरा का पूरा लोहे का बना है. इसमें इतना लोहा है कि अगर इसे पृथ्वी पर लाकर लोहे को बेच दिया जाए तो धरती पर रहने वाले हर आदमी को करीब 1 बिलियन पाउंड यानी 9621 करोड़ रुपये मिलेंगे. 

नासा को मिला लोहे का भंडार, इसे बेचें तो धरती के हर आदमी को मिलेंगे 9621 करोड़

नासा ने इस एस्टेरॉयड का नाम 16 साइकी (16 Psyche) रखा है. इस पूरे एस्टेरॉयड पर मौजूद लोहे की कुल कीमत करीब 8000 क्वॉड्रिलियन पाउंड है. यानी 8000 के पीछे 15 जीरो. 

ब्रिटिश मैग्जीन द टाइम्स के अनुसार 8000 क्वॉड्रिलियन पाउंड (8,000,000,000,000,000,000 पाउंड) यानी धरती पर मौजूद हर आदमी को 1 बिलियन पाउंड यानी 9621 करोड़ रुपये मिलेंगे. यह कीमत उस छोटे तारे पर मौजूद लोहे की है.

नासा ने स्पेस एक्स के मालिक एलन मस्क से मदद मांगते हुए कहा है कि वे इस एस्टेरॉयड पर मौजूद लोहे की जांच के लिए अपने अंतरिक्षयान से मिशन शुरू करें.

इस एस्टेरॉयड का व्यास 226 किलोमीटर है. यह हमारे सूरज के चारों तरफ एक चक्कर पांच साल में लगाता है. इसका एक दिन 4.196 घंटे का होता है.

नासा का कहना है कि इस एस्टेरॉयड को धरती के करीब लाने की कोई योजना नहीं है. लेकिन इस पर जाकर इसके लोहे की जांच करने की योजना बनाई जा रही है.

अगर स्पेस एक्स अपने अंतरिक्षयान से कोई रोबोटिक मिशन इस एस्टेरॉयड पर भेजेगा तो उसे वहां जाकर अध्ययन करके वापस आने में सात साल लगेंगे.