जानिए एड्स और HIV में क्या है फर्क | जनता से रिश्ता

file pic

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। आज 1 दिसंबर को पूरी दुनिया में विश्व एड्स दिवस मनाया जा रहा है. आज एड्स के प्रति दुनिया भर के कई देशों में जागरूकता अभियान चलाये जाएंगे. AIDS यानी कि एक्वायर्ड इम्यूनो डिफिशिएंसी सिंड्रोम, एक ऐसी बीमारी है जो संक्रमण से फैलती है. इसमें HIV (ह्यूमन इम्यूनो डेफिशिएंसी वायरस) मानव शरीर के इम्यून सिस्टम (रोग प्रतिरोधक तंत्र) को इतना ज्यादा नुकसान पहुंचाता है कि शरीर में एंटीबॉडी बननी बंद हो जाती है. ऐसे में मामूली से बुखार और जुकाम से भी लड़ने की क्षमता बॉडी में नहीं रह जाती और शरीर इतना कमजोर हो जाता है कि साधारण से साधारण बीमारी में भी इंसान की मौत हो सकती है. आइए जानते हैं एड्स के बारे में ख़ास बातें और क्या है HIV और AIDS में फर्क

एड्स दिवस के बारे में विशेष बातें:
क्या आप जानते हैं कि विश्व एड्स दिवस (World AIDS Day) सबसे पहली बार सन 1988 में मनाया गया था एड्स संक्रमित इंजेक्शन के इस्तेमाल, संक्रमित रक्त, असुरक्षित यौन संबंध और बॉडी फ्लूइड के जरिए फैलने वाली बीमारी है HIV वायरस संक्रमित व्यक्ति में शुरुआत के दो से चार हफ्ते में फ्लू जैसे लक्षण दिखाई देते हैं. इस समय को एक्यूट इन्फेक्शन (acute infection) कहा जाता है

AIDS और HIV में फर्क:

एड्स (AIDS) एक बीमारी है जबकि एचआईवी एक वायरस है. एचआईवी (HIV) वायरस एड्स (AIDS) फैलाता है. लेकिन ये बात पूरी तरह से ठीक नहीं है. अगर आपको बॉडी HIV इन्फेक्टेड है तब भी इस बात की सम्भावना है कि आपको एड्स न हो. अगर आप समय रहते डॉक्टर की सलाह लेते हैं और दवाइयों का कोर्स पूरा करते हैं तो आप एड्स के चंगुल से निकल सकते हैं