PM मोदी के जिक्र करने मात्र से अब पूरी तरह बदल गई है इस बेटी की तकदीर | जनता से रिश्ता

netra

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। चेन्नई : बेटी की पढ़ाई के लिए जमा किए गए 5 लाख रुपये को कोरोना वायरस के संकट काल के दौरान लोगों की मदद में खर्च करने वाले सैलून मालिक के. सी. मोहन और उनकी बेटी नेत्रा के लिए शनिवार को अच्छी खबर आई. अब नेत्रा की पढ़ाई का खर्चा तमिलनाडु की सरकार ने उठाने का फैसला लिया है.

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी ने शनिवार को घोषणा की कि मदुरै के उस सैलून मालिक की बेटी की उच्च शिक्षा पर आने वाले खर्च को राज्य सरकार वहन करेगी. जिसकी कोविड-19 राहत कार्य के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी प्रशंसा की थी

पलानीस्वामी ने कहा कि मदुरै के रहने वाले सैलून मालिक मोहन ने अपनी बेटी नेत्रा की शिक्षा के लिए पैसे जमा किए थे, लेकिन लॉकडाउन के दौरान गरीबों को सब्जी और किराने का सामान बांटने के लिए उन्होंने यह राशि खर्च कर दी. मुख्यमंत्री ने इस भावना की भी प्रशंसा की.

पलानीस्वामी ने कहा, ‘तमिलनाडु सरकार नेत्रा की उच्च शिक्षा पर आने वाले खर्च को वहन करेगी.’ उन्होंने कहा कि मोहन द्वारा महामारी के दौरान निस्वार्थ भाव से समर्पित होकर की गई सेवा के प्रति यह सम्मान है.

उन्होंने 13 वर्षीय लड़की का भी अभिनंदन किया जिसने बचत के पैसे जरूरतमंदों पर खर्च करने के लिए पिता को राजी किया.

बता दें कि 31 मई को प्रसारित ‘मन की बात’ कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘ऐसे असंख्य लोग हैं जो दूसरों की सेवा के लिए अपना सबकुछ न्योछावर करने के लिए तैयार हैं. ऐसे ही लोगों में एक व्यक्ति तमिलनाडु के के. सी. मोहन हैं.’

उन्होंने कहा, ‘श्री मोहन जी मदुरै में सैलून चलाते हैं. उन्होंने कड़ी मेहनत करके बेटी की शिक्षा के लिए पांच लाख रुपये जाम किए थे, लेकिन सारे रुपये इस मुश्किल समय में जरूरतमंदों और वंचितों की सेवा में खर्च कर दिए.’