J&K बैंक के पूर्व चेयरमैन परवेज अहमद के घर एंटी करप्शन ब्यूरो की छापेमारी

जनता से रिश्ता वेबडेस्क:-  जम्मू एंड कश्मीर बैंक (J&K Bank) के पूर्व चेयरमैन परवेज अहमद के घर एंटी करप्शन ब्यूरो (ACB) ने छापेमारी की है. बता दें कि जम्मू-कश्मीर सरकार ने जम्मू एंड कश्मीर बैंक के चेयरमैन परवेज अहमद को हटा दिया था. J&K बैंक में गड़बड़ियों को लेकर रिजर्व बैंक द्वारा बार-बार पत्र भेजे जाने के कारण अहमद को हटाया गया था. उनके स्थान पर आरके छिब्बर को बैंक अंतरिम चेयरमैन नियुक्त किया गया है. अहमद को 2016 में बैंक का चेयरमैन बनाया गया था.

क्यों हुई परवेज अहमद के खिलाफ कार्रवाई

बैंक से जुड़े सूत्रों के मुताबिक इसके पीछे कई वजह थी और कई गतिविधियां थी जिस वजह से जांच एजेंसियों को यह कार्रवाई करनी पड़ी. पिछले कई दिनों से जम्मू-कश्मीर बैंक के चेयरमैन जिस तरीके से अपनी गतिविधियां चला रहे थे वह सीधे-सीधे सबके रडार पर आ गए.क से जुड़े सूत्रों के मुताबिक जम्मू-कश्मीर बैंक के चेयरमैन परवेज अहमद के खिलाफ राज्य के भ्रष्टाचार निरोधक विभाग ने जो कार्रवाई की है उसके पीछे कुछ प्रमुख आधार हैं. महज 15 साल में परवेज अहमद बैंक में सीए से चेयरमैन बन गए जिस बात की जांच की जा रही है. अमूमन इतनी कम अवधि में इतने ऊंचे ओहदे तक पहुंचना मुमकिन नहीं होता. जांच एजेंसियां इस बात का पता लगा रही है कि आखिरकार परवेज अहमद किन-किन लोगों के संपर्क में थे.

गैर-कानूनी तरीके से भतीजे-बहू को लगवाई नौकरी
परवेज अहमद पर आरोप है कि उन्होंने गैर-कानूनी तरीके से अपने भतीजे मुजफ्फर और बहू शाजिया की बैंक में नौकरी लगवाई. जिस पद पर उनकी नियुक्ति हुई इन दोनों की ही पात्रता नहीं थी. एक और अहम पहलू जिसको जांच एजेंसियों ने अपना आधार माना है, वह है जम्मू-कश्मीर बैंक की पुलवामा और शोफिया शाखा, जहां से बैंक की गतिविधियां संचालित होती है. यह चेयरमैन की निजी संपत्ति है. इसके अलावा चेयरमैन के दो रिश्तेदार जम्मू-कश्मीर बैंक के एचआर और बोर्ड में हैं. हाल ही में जम्मू-कश्मीर बैंक ने एक कंपनी से डील साइन की थी जिसमें चेयरमैन की बहन काम करती है