छत्तीसगढ़

रायगढ़ जिले के मुखिया की नजरों से नहीं बच पाएंगे अवैध उत्खनन करने वाले - भीम सिंह

Janta se Rishta
11 Sep 2020 3:30 AM GMT
रायगढ़ जिले के मुखिया की नजरों से नहीं बच पाएंगे अवैध उत्खनन करने वाले - भीम सिंह
x

रायगढ़ :- जिले के धरमजयगढ़ क्षेत्र अंतर्गत कोयले के अवैध उत्खनन कर काले हीरे के साथ खेल - खेलने का काम पिछले कई महिने से बदस्तूर किया जा रहा था। जिसकी जानकारी रायगढ़ जिले के संवेदनशील कलेक्टर को मिली, जिसे श्री सिंह के तत्काल निर्देश पर धरमजयगढ़ एसडीएम नंदकुमार चौबे के मार्गदर्शन में अनुविभाग अंतर्गत ग्राम कोयलार से अवैध कोयला उत्खनन के विरुद्ध कार्यवाही की गयी है।

क्या था पूरा मामला…
रायगढ़ जिले के घरघोड़ा व धरमजयगढ़ ब्लॉक के वन क्षेत्रों में कोयला तस्करों के द्वारा विगत कई माह से बेखौफ होकर कोयला खोदकर चोरी छुपे तस्करी किया जा रहा था। कोयले का अवैध उत्तखनन करने वाले कोयला तस्करों एक रत्ति भार भी डर नहीं था। कानून, शासन-प्रशासन का खौफ
जिला प्रशासन के इतने सख्त निर्देशों को बाद अवैध कोयला उत्खनन के विरुद्ध सख्त कार्यवाहियों के बावजूद कोल तस्करों की योजनाबद्ध तरीके से घरघोड़ा, धरमजयगढ़ क्षेत्र के वनांचल क्षेत्र में चल रहा था। वहाँ के ग्रामीण भारी मात्रा में धरती का सीना खोद कर कोयले का अवैध उत्खनन लगातार कर रहे थे। कोल माफियाओं को तस्करी करते थे, हाल ही के इस भयानक महामारी, बीमारी कोरोना काल के लॉकडाउन में भी कोयले का अवैध खनन करने से बाज नहीं आ रहे ये तस्करों और कोल माफियाओं पर स्थानीय पुलिस, खनिज, और वन विभाग सहित प्रशासन की कार्यवाही का भी असर या खौफ दिखाई नहीं देता। रायगढ़ जिला में लॉकडाउन के बावजूद कोयले का अवैध खनन कर बेरोकटोक जारी था। कोल माफियाओं पर शासन व प्रशासन का कोई असर नहीं दिखता। क्योंकि यहां बेश कीमती मशीनों का उपयोग कर ये कोल तस्कर कोयले का उत्खनन करते नजर आ रहे थे। रायगढ़ जिला प्रशासन की सक्रियता के बावजूद भी कोल तस्कर आखिर बार - बार अवैध कोयला उत्खनन की हिमाकत आखिर किस दम पर कर रहे थे। प्रदेश के बाकी इलाकों की तरह रायगढ़ जिला प्रशासन भी कोरोना वायरस के इस संक्रमण को रोकने के लिए हर संभव प्रयास कर रहा था। प्रशासन ने जिले में लॉकडाउन के पालन के पुख्ता इंतजामत किए थे। लेकिन इन कोल तस्करों पर इसका कोई असर नहीं दिख रहा था। जिले के कोयलांचल वाले इलाकों में ये तस्कर अपना अलग अवैध खदान का संचालन करते नजर आ रहे थे। वहीं इनके कोयले का अवैध उत्खनन का कार्य निर्बाध जारी था। लॉकडाउन का किया जा रहा

उल्लंघन जिले में लगतार मरीजों के बढ़ते क्रम को देखकर रायगढ़ जिला सहित धरमजयगढ़ नगर पंचायत को भी पूर्ण लॉकडाऊन के श्रेणी में जिलाधीश के दिशा निर्देश पर रखा गया था। किंतु यहाँ समय के नजाकत को भांपते हुए तस्कर इन लॉकडाउन में भी सारे नियम कानून को दरकिनार करते हुए कोयले का अवैध उत्खनन में लगे रहे। और राजस्व विभाग को लाखों का चूना लागाते हुए दिन - रात कोयले का अवैध उत्खनन कर रहे थे। वहीं यहां के स्थानीय लोगों की मदद से जेसीबी, पोकलेन मशीन लगाकर लगभग आधा दर्जन हाईवा प्रति दिन रात लोड किए जाते थे। इस खेल के लिए रात के 12:00 बजे से लेकर सुबह 3:00 बजे तक गोरख धंधा जोरों पर तस्करों के द्वारा किया जाता था। थोड़े - थोड़े समय के अंतराल में ये गाड़ियाँ धरमजयगढ़ के ग्राम दुलियामुड़ा, कोयलार के अवैध खदान के मेन पॉइंट से मुख्य मार्ग होते हुए पत्थलगाँव व रायगढ़ के लिए थाने से मात्र 100 मीटर के दूर से कट जाते रहे थे।

शासन - प्रशासन का असर नहीं। प्रदेश के मुखिया ने प्रदेश के लिए इन माफियाओं को लेकर फरमान जारी किया गया था। कि किसी तरह के तस्करी प्रदेश सरकार बर्दास्त नहीं करेगी। किन्तु सरकार के इस फरमान को ठेंगा दिखाते हुए माफियाओं ने बेरोकटोक अपने काले कारनामों को अंजाम दे रहे थे। जिला में बैठे खनिज विभाग नहीं देते इस तरह के कारनामों पर ध्यान। जिससे माफियाओं के हो रहे थे हौसले बुलंद। जिला मुख्यालय में इन सबके लिए एक अलग शाखा का निर्माण किया गया है। जिसका यही काम है। किंतु इन्हें मुख्यालय के कुर्सी से इतना लगाव है, कि ये यहाँ से टस से मस नही होते और इसी कारण माफियाओं के हौसले बुलंद होता जा रहे थे। खनिज विभाग में पदस्थ अधिकारी कर्मचारी क्षेत्र के दौरे पर जाना मुनासिब नहीं समझते और मुख्यालय में कुर्सी पर बैठे - बैठे क्षेत्र में हो रहे कोयला, रेत, मुरुम, मिट्टी के अवैध उत्खनन पर महज कागज पर दिखावे की कार्यवाही कर देते हैं। इसी कड़ी में रायगढ़ कलेक्टर भीम सिंह ने इस अवैध उत्खनन की जानकारी मिलते ही रायगढ़ कलेक्टर के दिशा निर्देश पर धरमजयगढ़ के ग्राम - कोइलार में अज्ञात व्यक्तियों के द्वारा माण्ड नदी के समीप में कोयला का अवैध उत्खनन कर लगभग 4 ट्रेक्टर ट्राली निकालकर रखा गया था। जिसको जप्त कर नियमानुसार कार्यवाही की गयी है। उनका कहना है कि और इस तरह की कार्यवाही अब अवैध उत्खनन को लेकर लगातार जारी रहेगी।

Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta