व्यापार

महामारी में कैसे करें अपनी फाइनेंशियल प्लानिंग, आपके काम आएगा ये चार खास बातें

Janta se Rishta
18 Aug 2020 5:49 AM GMT
महामारी में कैसे करें अपनी फाइनेंशियल प्लानिंग, आपके काम आएगा ये चार खास बातें
x

जनता से रिश्ता वेबडेस्क | कोविड -19 महामारी ने दुनिया में एक ठहराव सा ला दिया है। संभवत, यह पिछले 75 वर्षों में सबसे बड़े संकटों में से एक है। हालांकि, इस महामारी से निपटने के लिए लगातार कोशिशें चल रही हैं। इसके अलावा, इस कठिन समय से निपटने के लिए हमें आने वाले समय के वास्ते अभी से तैयारी करनी होगी। यह महामारी हमें अपनी वित्तीय आवश्यकताओं पर फिर से गौर करने और अपनी वित्तीय योजनाओं के पुनर्मूल्यांकन के लिए प्रोत्साहित करती है। आइये जानते हैं इस कोरोना के समय में हमें क्या करना चाहिए।

अपनी बीमा जरूरतों की फिर से गणना करें

एक अच्छी स्वास्थ्य बीमा योजना सभी के लिए जरूरी है। अगर यह पारिवारिक बीमा है तो कवरेज निश्चित रूप से 5 लाख रुपये से अधिक होना चाहिए। निवेशकों को कवरेज राशि बढ़ाने के लिए कम लागत वाले टॉप-अप बीमा पर विचार करना चाहिए। इसके अलावा, परिवार के कमाने वाले सदस्य के लिए पर्याप्त बीमा आवश्यक है।

अपने वित्तीय लक्ष्य को फिर से चिन्हित करें

यात्रा और बड़े सामाजिक सम्मेलन दो ऐसी चीजें हैं जिन्हें इस संकट के कारण रोक दिया गया है। कई व्यक्ति अपने प्रमुख वित्तीय लक्ष्यों में से एक छुट्टी को देखते हैं। इसके अलावा, पारिवारिक कार्यों पर खर्च में काफी कमी आई है। बड़े इमरजेंसी फंड बनाने के लिए वेकेशन फंड और बिग फैमिली फंक्शन फंड के अतिरिक्त पैसे का उपयोग करें। इसके अलावा, अपने अन्य प्रमुख वित्तीय लक्ष्यों का फिर से आकलन करें।

इमरजेंसी फंड बढ़ाएं

छह महीने के खर्च के बराबर एक इमरजेंसी फंड होना पर्याप्त नहीं है। इस तरह का संकट बहुत लंबे समय तक लोगों को नौकरी से दूर रख सकता है और अप्रत्याशित बड़े चिकित्सा खर्च भी करा सकता है। हमें सबसे खराब दौर से गुजरने के लिए भी तैयार रहना चाहिए और सामान्य जीवन जीने के लिए आवश्यक व्यवस्था करनी चाहिए। कम से कम दो साल के खर्च का इमरजेंसी फंड होना चाहिए ताकि हमें भविष्य की अप्रत्याशित परिस्थितियों से लड़ने के लिए पर्याप्त सुरक्षा मिल सके।

अपने बजट का पुनर्मूल्यांकन करें

इस महामारी में आवश्यक और लक्जरी व्यय के बीच अंतर स्पष्ट करें। व्यक्तियों को इसे अपने बजट को आश्वस्त करने और अनावश्यक व्यय को कम करने के अवसर के रूप में लेना चाहिए। यह हमें अतिरिक्त बचत करने में मदद करेगा जिसका उपयोग निवेश बढ़ाने या बहुत आवश्यक बीमा कवरेज खरीदने के लिए किया जा सकता है।

Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it