छत्तीसगढ़

रायपुर : मौत की झूठी खबर फैली, पार्षद मृत्युंजय दुबे ने कहा-स्वस्थ हूं

Janta se Rishta
25 Aug 2020 6:36 AM GMT
रायपुर : मौत की झूठी खबर फैली, पार्षद मृत्युंजय दुबे ने कहा-स्वस्थ हूं
x


भाजपा नेता की मौत के बाद हुआ कंफ्यूजन

रायपुर (जसेरि)। भाजपा पार्षद मृत्युंजय दुबे की कोरोना संक्रमण की वजह से सोमवार को मौत की झूठी खबर फैल गई। एक न्यूज पोर्टल में गलती से प्रसारित हुई खबर से लोग भौचक्के रह गए। पार्षद के घर पर लोग आना शुरू हो गए। तब पार्षद ने खुद एक वीडियो संदेश सोशल मीडिया में जारी कर खुद को स्वस्थ बताया।
पार्षद ने वीडियो जारी कर खुद को बतया स्वस्थ : खबर के वायरल होते ही पार्षद मृत्युंजय दुबे ने वीडियो जारी कर स्वयं के स्वस्थ व सकुशल होने की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि दरअसल वार्ड में भारतीय जनता पार्टी के एक नेता की आज मौत हुई है। इसकी जानकारी मीडिया में पहुंची और गलतफहमी में मेरे निधन का समाचार वायरल कर दिया गया। इस बारे में संबंधित समाचार संस्थान से मेरी बात हुई उन्होंने अपनी गलती स्वीकारी है। अब गलती हो जाती है इसमें क्या किया जा सकता है, लेकिन मैं ठीक हूं सब कुछ ठीक है।
रोका संक्रमण का खतरा: पार्षद मृत्युंजय दुबे ने बताया कि वार्ड में बीजेपी के जिस नेता की मौत हुई वो दोपहर के वक्त कोरोना जांच करवाने गए थे। तबीयत ठीक नहीं थी उनकी वापस आते वक्त उनकी मौत हो गई। परिवार अंतिम संस्कार की तैयारी में था, मुझे आशंका हुई कि वो कोरोना संक्रमित हो सकते हैं। परिजनों से मैंने बात की शव को अलग कमरे में रखवाया। नगर निगम से उनके मकान को सैनिटाइज करवाया। जिला प्रशासन ने एक टीम भेजी जांच में मृतक कोरोना पॉजिटिव पाए गए। शव के संपर्क में परिवार के लोगों या मोहल्ले के लोगों को नहीं आने दिया गया। इसके बाद कोविड प्रोटोकॉल के तहत पीपीई किट पहनकर 4 परिजन ने उनका अंतिम संस्कार किया।
मृत्युंजय दुबे की जागरूकता से टली बड़ी घटना
बीजेपी पार्षद मृत्युंजय दुबे की पार्षद की जागरूकता से बड़ी घटना टल गई. बताया जा रहा है कि लाखेनगर में बीजेपी कार्यकर्ता की मौत हो गई थी। कल तबीयत खराब होने पर निजी डॉक्टर ने कोविड की आशंका जाहिर की थी, सोमवार को दूसरे डॉक्टर के यहां से लौटते समय कार में ही उनकी मौत हो गई। इस दौरान पार्षद मृत्युंजय दुबे ने बॉडी को अलग रखवा दिया। और लगभग 2 घंटे तक जिला प्रशासन के लोगों को कोरोना पीडि़त होने की आशंका जताई। लेकिन किसी ने माना नहीं, लगभग 2 घण्टे बाद जब जांच की व्यवस्था हुई तो मृतक की कोरोना टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव निकला। पार्षद और परिजनों की जागरूकता के कारण भाठागांव और मंगलबाजार जैसी स्थिति बनने से रुक गई। पार्षद मृत्युंजय दुबे का परिवार स्वतंत्रता संग्राम सेनानी परिवार है और अभी कोरोना कॉल में आम जनता और अपने वॉर्ड की नागरिकों की सेवा में वे काफी सक्रिय हैं।

Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta