धनतेरस पर बाजारों में बढ़ी रौनक

जनता से रिश्ता वेबडेस्क:-दीपावली का पावन पर्व अगले सप्ताह धनतेरस के साथ शुरू हो रहा है। धनतेर से दिपावली पर्व की शुरुआत मानी जाती है। यह कार्तिक मास कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को मनाया जाता है जो कि इस साल 25 अक्टूबर को मनाया जाएगा। मान्यता है कि इस दिन खरीदकर अपने घर नया सामान (सोना, चांदी और बर्तन) लाने से पूरे साल मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है। यही कारण है कि धनतेरस के मौके पर अचानक बाजारो में चहल-पहल बढ़ जाती है। धनतेरस के मौके पर सोने की खरीददारी का विशेष प्रचलन होने सोने व चांदी के दामों में भी खासी तेजी देखने को मिलती है। इस बार पहले से ही सोने के दाम आसमान छू रहे हैं ऐसे में धनतेरस पर सोना और भी महंगा हो सकता है।

त्रयोदशी तिथि-25 अक्टूबर 2019 शाम साढ़े चार बजे से 26 अक्टूबर को दोपहर बाद दो बजे तक है। ऐसे में आज धनतेरस के दिन आप शाम साढ़े चार बजे से रात तक खरीददारी कर सकते हैं।

धनतेरस पर बर्तन के बाजारों में रौनक बढ़ी:-धनतेरस को लेकर सोमवार से बर्तनों के बाजार में रौनक है। धनतेरस 25 अक्टूबर को है। इस कारण अभी से ही सुदुर गांव के लोग बर्तनों की खरीदारी करने पहुंच रहे हैं। बिहार के पूर्णिया में अभी से ही छठ पूजा के लिए पीतल के सूप आदि की खरीदारी कर रहे हैं। अभी से ही दुकानों में भीड़ उमड़ी रही। इसको लेकर शहर में मधुबनी, विकास बाजार, बहुमंजिला मार्केट, भट्ठा झंडा चौक स्थित दर्जनों बर्तनों की सभी दुकानें सज चुकी हैं। इन दुकानों पर भीड़ अभी से उमड़ रही है। धनतेरस के ही दिन भगवान धनवंतरी का जन्म हुआ था। हिन्दू पौराणिक कथा के अनुसार धनतेरस के दिन कुछ न कुछ इंसान को अवश्य खरीदना चाहिए। इससे ईश्वर की कृपा बनी रहती है और उस व्यक्ति को धन की कोई कमीं नहीं रहती है। इसलिए यह परंपरा सैकड़ों सालों से चली आ रही है।