छत्तीसगढ़

रायपुर में बाज नहीं आ रहे अपराधी, हौसले बुलंद...चाकूबाजी, लूट व मारपीट की घटनाएं आम

Janta se Rishta
7 Sep 2020 6:06 AM GMT
रायपुर में बाज नहीं आ रहे अपराधी, हौसले बुलंद...चाकूबाजी, लूट व मारपीट की घटनाएं आम
x

रायपुर (जसेरि)। राजधानी में नशे का कारोबार करने वाले अपराधी अपना दायरा बढ़ाते जा रहे हैैं। राजधानी रायपुर दिन पे दिन अपराधधानी बनता जा रहा है। चाकूबाजी, लूट और मारपीट की घटनाएं आम सी हो गई है। पुलिस का खौफ अपराधियों के अंदर से पूरी तरह खत्म हो गया है। राजधानी के हिस्ट्रीशीटर और आदतन अपराधी जिले में अपना वर्चस्व स्थापित करने लगे हैं। रायपुर जिले में अपराध और अपराधी दोनों ही बहुत बढ़ गए हैं। अपराध लोग करते है और हर बार लोगों में अपने अपराध के जरिए दहशत का माहौल बनाने की कोशिश करते हैं। लोगों से चेन स्नेचिंग करना लोगों को डरा धमका कर उनसे अवैध वसूली करना सारे अपराध करने में रायपुर के अपराधी नंबर 1 में चल रहे हैं। अक्सर ऐसा देखा गया हैं कि अपराधी दिमाग के लोग ऐसे लोगों से लूटते है जो कि रास्ते में अकेले जा रहा हो या फिर जिसके साथ एक या दो लोग दिखे ऐसे लोगों को रोक कर उनके साथ गलत व्यहार से पेश आते हैं और उनसे लूटते हैं।
नया रायपुर रोड में होते हैं अपराध : नवा रायपुर के रास्तों में अक्सर लूट, हत्या, और एक्सीडेंट जैसी वारदातें होती रहती हैं। जिसकी वजह से लोग उस रास्तें में जाना पसंद नहीं करते। सीसीटीवी कैमरे लगने के बाद से आपराधिक गतिविधियां थमने का नाम भी नहीं ले रही हैं। दरअसल इलाके में दुष्कर्म, हत्या, लूटपाट की वारदात होने की वजह से पुलिस भी परेशान चल रही हैं। नवा रायपुर में चमचमाती पक्की सड़क होने के कारण शहर से भारी संख्या में युवक-युवती घूमने के इरादे से जाते हैं। सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम नहीं होने से शाम ढलते ही आपराधिक गतिविधियां पूरे इलाके में तेज हो जाती हैं। चार साल पहले कार सवार बदमाशों ने इंजीनियर की चाकू से गोदकर हत्या कर दी थी। ऐसे मामले देखने को मिलते जरूर है मगर लोगों में इन हादसों का डर भी नहीं रह जाता हैं। वहीं सेरीखेड़ी में एक प्रेमी जोड़े से विवाद कर बदमाशों ने प्रेमिका के सामने ही प्रेमी की गोली मारकर हत्या कर दी थी। यही नहीं, दंपती के साथ मारपीट कर लूट आदि कई घटनाएं हो चुकी हैं।
पहली घटना आई सामने : आज से ढाई साल पहले इलाके में एक कंस्ट्रक्शन कंपनी के सुपरवाइजर और सिविल इंजीनियर को कार सवार 4 नशेड़ी बदमाशों ने मामूली विवाद पर ओवरटेक कर रोककर दोनों की जमकर पिटाई करने के बाद चाकू से गोद दिया था। इस घटना में सुपरवाइजर की मौत हो गई थी। वारदात में शामिल तीन युवक तो पकड़े गए लेकिन एक जिले के कलेक्टर का हिस्ट्रीशीटर भाई अब तक नहीं पकड़ा जा सका।
दूसरी घटना आई सामने : 23 अक्टूबर 2016 की देर शाम सेरीखेड़ी में एक सूनसान जगह में युवती के सामने उसके दोस्त को अज्ञात बदमाशों ने गोली मारकर हत्या की थी। आरोपितों का अब तक सुराग नहीं मिल पाया है। नौ दिन बाद घटना की चश्मदीद युवती ने अपने घर में आत्महत्या कर ली थी। युवती के परिजनों ने पुलिस पर प्रताडऩा से परेशान होकर आत्महत्या का आरोप लगाया था।

ऑनलाइन अपराध भी अपना जाल बना रहे हैं


रायपुर में ही नहीं पूरे छत्तीसगढ़ में ऑनलाइन अपराध कम नहीं हो रहे हैं जिसकी वजह से लोग भी बहुत परेशान होते जा रहे हैं। ऑनलाइन फ्रॉड करने वालों की संख्या छत्तीसगढ़ में लगातार बढ़ रही है। रायपुर, बिलासपुर और दुर्ग जैसे बड़े शहरों में सबसे ज्यादा लोग ऑनलाइन ठगी के शिकार हो रहे हैं जबकि कार्रवाई के मामले में पुलिस लगातार पिछड़ रही है। छत्तीगसढ़ में पिछले डेढ़ साल में साइबर क्राइम और ऑनलाइन ठगी के मामलों में तेजी से इजाफा हुआ है।

Next Story
© All Rights Reserved @ 2022Janta Se Rishta