Top
विश्व

भारत सरकार की चेतावनी के बाद चिंता में चीन, पांच साल बाद तिब्बत दौरे पर पहुंचे चीनी विदेश मंत्री

Janta se Rishta
17 Aug 2020 9:41 AM GMT
भारत सरकार की चेतावनी के बाद चिंता में चीन, पांच साल बाद तिब्बत दौरे पर पहुंचे चीनी विदेश मंत्री
x

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। पेइचिंग: भारत के 74वें स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हुंकार के एक दिन बाद चीन के विदेश मंत्री वांग यी तिब्बत दौरे पर पहुंचे। इस दौरान चीनी विदेश मंत्री ने भारत के खिलाफ खुलकर तो कोई बयान नहीं दिया, लेकिन इशारों में सीमा पर जारी तनाव के बीच तिब्बत की सुरक्षा को लेकर बात की। बताया जा रहा है कि वांग यी 5 साल बाद तिब्बत के दौरे पर पहुंचे हैं।

चीन के शीर्ष नेता कम ही करते हैं तिब्बत का दौरा
बता दें कि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के नेता तिब्बत का दौरा तबतक नहीं करते जबतक कोई अति महत्वपूर्ण काम न हो। ऐसी स्थिति में वांग यी की तिब्बत यात्रा को सामरिक विशेषज्ञ शक के नजरिए से देख रहे हैं। चीन के शीर्ष नेता के तिब्बत यात्रा को गलवान हिंसा से जोड़ा जा रहा है। जबकि चीन की सरकारी मीडिया ग्लोबल टाइम्स ने दावा किया है कि वे पूरे चीन में रिसर्च ट्रिप पर अक्सर जाते रहते हैं।

सीमाई इलाके में सुरक्षा स्थिति का लिया जायजा
इस दौरान वांग यी ने कहा कि तिब्बत की सुरक्षा और स्थिरता चीन के समग्र विकास के लिए महत्वपूर्ण है। उन्होंने राजनयिकों से स्थानीय अधिकारियों के साथ मिलकर राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए काम करने का आग्रह किया। उन्होंने यह भी कहा कि चीन सरकार तिब्बत के लोगों के साथ मिलकर क्षेत्रीय स्थिरता, राष्ट्रीय सुरक्षा और दूसरे देशों के साथ सहयोग के लिए तिब्बत को समर्थन और आर्थिक और सामाजिक विकास सुनिश्चित कर रही है।

संप्रभुता का दावा करने के लिए वांग ने की यात्रा
नानजिंग विश्वविद्यालय के एक राजनीतिक विज्ञान के प्रोफेसर गु सू ने कहा कि चीनी विदेश मंत्री की तिब्बत यात्रा अपने आप में अनोखी है। खासकर ऐसे वक्त में जब भारत के साथ सीमा विवाद और अमेरिकी दूतावास को बंद करने को लेकर यह क्षेत्र अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियों में रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि वांग यी की यात्रा से चीन यह संकेत देना चाहता है कि वह सीमाई क्षेत्र में अपनी संप्रभुता को लेकर गंभीर है।

क्या कहा था पीएम मोदी ने
पीएम मोदी ने लाल किले से चीन और पाकिस्तान का नाम लिए बिना चेतावनी देते हुए कहा था कि एलओसी से एलएसी तक आंख उठाने वालों को सेना ने करारा जबाव दिया है। हमारे वीर जवान क्या कर सकते हैं, देश क्या कर सकता है, ये लद्दाख में दुनिया ने देखा है। उन्होंने यह भी कहा कि आज पड़ोसी सिर्फ वो ही नहीं हैं जिनसे हमारी भौगोलिक सीमाएं मिलती हैं बल्कि वे भी हैं जिनसे हमारे दिल मिलते हैं।

https://jantaserishta.com/news/us-president-trump-signs-after-tiktok-alibaba-may-be-banned/

Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it