चीन दे रहा अपनी सेना को गुरु-ज्ञान… भारत और अमेरिका की दोस्ती चीन को मंजूर नहीं…

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। भारत और अमेरिका समेत दुनियाभर के देशों के साथ जारी तनाव के बीच चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने फिर एक बार चीनी सेना के आधुनिकीकरण का मुद्दा उठाया है। चीनी सेना पीएलए के 42 स्थापना दिवस के अवसर पर जिनपिंग ने कहा कि चीनी विशेषताओं के साथ समाजवाद बनाए रखने के लिए विकास और सुरक्षा दोनों महत्वपूर्ण हैं। जिनपिंग ने कहा कि राष्ट्रीय रक्षा और सशस्त्र बलों का आधुनिकीकरण देश के आधुनिकीकरण की प्रक्रिया के साथ ही होनी चाहिए। इसके साथ ही हमें अपनी सैन्य क्षमताओं को राष्ट्रीण रणनीतिक आवश्यक्ताओं के अनुसार विकसित करना होगा। उन्होंने चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के योगदान का उल्लेख करते हुए कहा कि सीपीसी हमेशा से देश की रक्षा और सुरक्षाबलों को मजबूत बनाने के लिए प्रयासरत रही है।

दक्षिण चीन सागर पर ऑस्‍ट्रेलिया और चीन में ट्वीट वॉर, ड्रैगन पर भड़का मलेशिया

इस साल के अंत तक सेना को विश्व स्तरीय बनाने का दावा : चीनी राष्ट्रपति ने दावा किया कि इस साल यानी 2020 के अंत तक चीन राष्ट्रीय रक्षा और सशस्त्र बलों को मजबूत करने के लक्ष्यों को प्राप्त कर लेगा। इस प्रक्रिया के पूरा होते ही चीन की सेना दुनिया की सबसे आधुनिक फोर्स बन जाएगी। उन्होंने इस कार्य के लिए सीपीसी केंद्रीय समिति और केंद्रीय सैन्य आयोग द्वारा बनाई गई रणनीतिक योजनाओं और व्यवस्थाओं को लागू करने के प्रयासों का आह्वान किया।

सैन्य बजट फिर बढ़ा सकता है चीन : जिनपिंग ने चीनी सेना के भविष्य की योजनाओं पर प्रकाश डालते हुए कहा कि 14 वीं पंचवर्षीय (2021-2025) योजना का निर्माण देश की सैन्य ताकत को बढ़ाने के लिए किया जाएगा। इसमें वैज्ञानिक तरीकों से चीनी सेना को भविष्य के लिए तैयार किया जाएगा। इसके लिए उन्होंने जन जागरूकता को बढ़ने के लिए पार्टी की इकाईयों को सक्रिय करने की बात भी की है।