ताइवान को हथियार बेचने पर भड़का चीन, अमेरिका के शीर्ष हथियार निर्माण कंपनी लॉकहीड मार्टिन को किया बैन | जनता से रिश्ता

tai

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। दुनियाभर में फैली कोरोना महामारी और चीनी रवैये की वजह से चीन और कई देशों के बीच रिश्तों में खटास बढ़ते जा रही है। हांगकांग में राष्ट्रीय सुरक्षा कानून, कोरोनावायरस का फैलना हो या फिर भारत के साथ सीमा गतिरोध, इन्हें लेकर हर तरफ चीन की किरकिरी हो रही है। उधर अमेरिका और चीन में आर्थिक और कूटनीतिक तौर पर भी जंग जारी है।

इसी के मद्देनजर कूटनीतिक तौर पर चीन ने मंगलवार को अमेरिका के शीर्ष हथियार निर्माण कंपनी लॉकहीड मार्टिन पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की। बीजिंग ने यह कदम अमेरिकी विदेश मंत्रालय द्वारा ताइवान को पीएसी-3 वायु रक्षा मिसाइल करार को मंजूरी देने के जवाब में उठाया जिसका निर्माण यह कंपनी करती है।
चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा, ‘चीन मजबूती से अमेरिका द्वारा ताइवान को हथियार बेचने का विरोध करता है। हम अमेरिका का आह्वान करते हैं कि वह ‘एक चीन’ के सिद्धांत का ईमानदारी से अनुपालन करे, ताइवान को हथियारों की बिक्री बंद करे और ताइवान के साथ सैन्य संबंधों को समाप्त करे ताकि द्विपक्षीय संबंधों को एवं ताइवान जलडमरुमध्य में शांति और सुरक्षा को और नुकसान नहीं पहुंचे।’
झाओ की यह टिप्पणी अमेरिकी विदेश मंत्रालय द्वारा पैट्रियॉट एडवांस्ड कैपेबिलिटी- (पीएसी-3) वायु रक्षा प्रणाली को बेचने के लिए ताइवान के पुनप्रमाणीकरण अनुरोध को स्वीकार करने के कई दिन बाद आई है। इस प्रणाली पर 62 करोड़ डॉलर खर्च आने का अनुमान है।

अमेरिकी रक्षा सुरक्षा सहयोग एजेंसी (डीएससीए) ने बृहस्पतिवार को जारी बयान में कहा कि कांग्रेस (अमेरिकी संसद) पहले ही संभावित बिक्री को अधिसूचित कर चुकी है। डीएससीए के बयान के हवाले से अमेरिकी मीडिया ने बताया कि ताइवान ने पीएसी-3 मिसाइल रक्षा प्रणाली के कुछ हिस्सों को खरीदने का अनुरोध किया था ताकि यह 30 साल के परिचालन अवधि तक काम कर सके। लॉकहीड मार्टिक कॉरपोरेशन इस करार का प्रमुख ठेकेदार है।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि चीन ने लॉकहीड मार्टिन पर प्रतिबंध जवाबी कार्रवाई के तहत लगाया है। झाओ ने कहा, ‘चीन ने सभी जरूरी कदम उठाने का फैसला किया है। हम इस बिक्री के मुख्य ठेकेदार लॉकहीड मार्टिन पर प्रतिबंध लगाएंगे।’

विश्लेषकों का कहना है कि चीनी प्रतिबंध संकेतात्मक है क्योंकि लॉकहीड मार्टिन चीन को कोई हथियार नहीं बेचती है।