छत्तीसगढ़: थोक से चार गुना रेट पर बेच रहे सब्जियां |जनता से रिश्ता

फलों के दाम भी बढ़ाए, रिटेलर कर रहे मनमानी

रायपुर (जसेरि)। लॉक डाउन के दौरान सब्जियों व फलों की कीमतों में अनावश्यक बढ़ोतरी कर रिटेलर्स लोगों को चूना लगाने लगे हैं। थोक रेट से चार गुने दाम पर सब्जियां बेची जा रही हैं। मौके का लाभ उठाने वाले लोगों पर प्रशासन को अंकुश लगाने की जरूरत है। बालोद कलेक्टर ने सब्जियों और फलों के दाम निर्धारित किए हैं ताकि चिल्हर विक्रेता मनमानी न कर सके।
राजधानी में भी जिला प्रशासन को सब्जियों-फलों, दूध और अनाजों के मुनाफाखोरी पर अंकुश लगाना चाहिए। चिल्हर में टमाटर 40 से 60 रुपये किलो और बरबट्टी 80 रुपये किलो तक पहुंच गई। सब्जी कारोबारियों का कहना है कि अगर आवक में सुधार नहीं हुआ तो आने वाले दिनों में कीमतों में और बढ़ोतरी होगी।

गुरुवार को सब्जियों की चिल्हर की कीमतों में भी जबरदस्त तेजी आई। यह तेजी शास्त्री बाजार, गोलबाजार, टिकरापारा, संतोषी नगर में देखी गई। टमाटर थोक में 15-20 रुपये किलो और चिल्हर में 40 से 60 रुपये किलो तक बिका। इसी प्रकार फूल गोभी थोक में 12 रुपये, चिल्हर में 40 रुपये किलो,पत्ता गोभी थोक में 6-8 रुपये किलो और चिल्हर में 30-40 रुपये किलो रहा। लौकी थोक में 6 रुपये किलो और चिल्हर में 20 रुपये किलो, धनिया थोक में 30 और चिल्हर में 80 रुपये किलो, करेला थोक में 25-30 रुपये और चिल्हर में 60-80 रुपये किलो, भिंडी थोक में 15-20 रुपये किलो और चिल्हर में 60-80 रुपये किलो तक बिकी। थोक सब्जी व्यावसायी संघ के अध्यक्ष टी श्रीनिवास रेड्डी का कहना है कि बाहर की गाडिय़ां रोकी जाने के कारण सब्जियों की आवक कमतर हो गई है। ऐसी ही स्थिति रही तो आने वाले दिनों में कीमतें और बढ़ जाएंगी। चिल्हर में इन दिनों आलू-प्याज 35 से 40 रुपये किलो तक बिक रहे है। बताया जा रहा है कि इसकी आवक अभी सामान्य बनी हुई है।

फलों की कीमतों पर सबसे अधिक असर

लॉकडाउन का असर फलों की कीमतों में भी पडऩे लगा है। बुधवार को चैत्र नवरात्र की शुरूआत के साथ ही फलों के दाम भी काफी महंगे होने लगे है। साथ ही आवक कम होने के कारण फलों की क्वालिटी भी थोड़ी कमतर आ रही है। लेकिन उसकी कीमतों में बढ़ोतरी है। नवरात्र के साथ ही लोगों के उपवास और पूजा-पाठ भी शुरू हो गया है। हालांकि मंदिरों में कोई आयोजन न होने के कारण लोग घरों में पूजा-पाठ करेंगे।

गैस सिलेंडर की मांग 40 फीसद बढ़ी

लॉकडाउन के चलते बीते पांच दिनों में गैस सिलेंडरों की मांग 40 फीसद मांग बढ़ गई है। गैस सिलेंडर की जल्द सप्लाई के लिए उपभोक्ता गैस एजेंसी में लगातार फोन भी कर रहे है। रोजाना ही ये मांग बढ़ती जा रही है। एक अनुमान के अनुसार अगर राजधानी में रोजाना एक हजार एलपीजी की सप्लाई माना जाए तो इन दिनों रोजाना 14 सौ एलपीजी सिलेंडरों की मांग बनी हुई है। मांग बढऩे का एक कारण यह भी है कि लोगों में दहशत का माहौल है कि कहीं उनकी यह सेवा भी प्रभावित न हो जाए। ऑनलाइन बुकिंग करने के साथ ही गैस एजेंसियों में भी इन दिनों लोगों की भीड़ जुटने लगी है।

किराना-अनाज दुकानों में भी मुनाफाखोरी

किराना और अनाज की दुकानों में भी बड़े पैमाने पर मुनाफाखोरी की शिकायत मिल रही है। अनाज-दाल व चीनी की कीमतो में अनावश्यक बढ़ोतरी कर दुकानदार मुनाफाखोरी कर रहे हैं।