Top
विश्व

ब्रिटेन ने दी मंजूरी, एस्‍ट्राजेनेका फि‍र शुरू करेगी कोरोना वैक्‍सीन का ट्रायल

Janta se Rishta
12 Sep 2020 3:49 PM GMT
ब्रिटेन ने दी मंजूरी, एस्‍ट्राजेनेका फि‍र शुरू करेगी कोरोना वैक्‍सीन का ट्रायल
x

जनता से रिश्ता वेबडेस्क | लंदन,ब्रिटेन की मंजूरी मिलने के बाद एस्‍ट्राजेनेका ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की कोरोना वैक्सीन का ट्रायल फि‍र शुरू कर दिया है। बीते दिनों ट्रायल में एक ब्रिटिश वॉलंटियर के बीमार पड़ने के चलते ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की कोरोना वैक्सीन का ट्रायल रोकना पड़ा था।

बता दें कि ऑक्सफोर्ड के साथ मिलकर बायोफार्मास्युटिकल फर्म एस्ट्राजेनेका इस वैक्सीन को तैयार कर रही है। पहले और दूसरे चरण में सफल रहने के बाद इसका तीसरे चरण का ट्रायल चल रहा था लेकिन एक वालंटियर की तबियत बिगड़ने के चलते इसे रोक दिया गया था। माना जा रहा है कि यदि इसका ट्रायल सही सलामत पूरा हो जाता है तो अगले साल की शुरुआत तक यह बाजार में दस्‍तक दे देगी।

वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल में अमेरिका, ब्रिटेन, ब्राजील एवं दक्षिण अफ्रीका से करीब 30,000 वॉलंटियर जुड़े थे। गड़बड़ी सामने आने के बाद भारत के साथ इन सभी देशों में ट्रायल रोक दिया गया था। एस्ट्रोजेनेका के प्रवक्ता ने कहा था कि ट्रायल में हिस्सा लेने वाले किसी भी वॉलंटियर की किसी भी कारण से तबीयत खराब हो जाने की स्थिति में किसी स्वतंत्र एजेंसी से जांच हो जाने तक परीक्षण रोक दिया जाता है ताकि प्रक्रिया पर भरोसा बना रहे।

प्रवक्ता ने बताया था कि ट्रायल के दौरान विपरीत प्रभाव केवल एक ही वॉलंटियर पर दिखा। हम पूरी सुरक्षा एवं तय मानकों के हिसाब से परीक्षण के लिए प्रतिबद्ध हैं। इस मामले के सामने आने के बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा था कि कोरोना वैक्सीन के मामले में सर्वोच्च सुरक्षा उसकी प्राथमिकता में है। डब्ल्यूएचओ की मुख्य विज्ञानी डॉ. सौम्या स्वामीनाथन ने कहा था कि एस्‍ट्राजेनेका की वैक्‍सीन के ट्रायल में बीमारी का आना एक 'वेक-अप कॉल' की तरह है। इससे वैज्ञानिकों को निराश नहीं होना चाहिए।

भारत में भी रोक दिया गया था ट्रायल

भारत में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की कोरोना वैक्सीन का ट्रायल रोक दिया गया था। भारत में ट्रायल कर रहे सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने कहा था कि जब तक एस्ट्राजेनेका ट्रायल दोबारा शुरू नहीं करती तब तक के लिए हमने भी प्रक्रिया रोक दी है। हम डीसीजीआइ के निर्देशों का पालन कर रहे हैं।

डीसीजीआइ ने जारी किया था नोटिस

बीते बुधवार को दवा नियामक ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआइ) वीजी सोमानी ने कंपनी को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए पूछा था कि दुनिया के बाकी देशों में ट्रायल रुकने के बाद भी कंपनी ने लोगों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए ट्रायल रोका क्यों नहीं है। अब जब ब्रिटेन ने टीके के ट्रायल को हरी झंडी दे दी है। उम्‍मीद है कि जल्‍द ही भारत में भी ट्रायल शुरू कर दिया जाएगा।

https://jantaserishta.com/news/ladakh-tension-continues-indian-troops-raise-front-on-blacktop-hill-china-increased-deployment/

https://jantaserishta.com/news/iran-hangs-champion-wrestler-nawid-afkari-donald-trump-appeals-for-pardon/

Next Story
© All Rights Reserved @Janta Se Rishta
Share it