Asia Cup: सबकी नजर भारत-पाक के ‘महामुकाबले’ पर

 जनता से रिश्ता वेबडेस्क :- दूबई:एशिया कप क्रिकेट टूर्नामेंट का आगाज शनिवार, 15 सितंबर से होने जा रहा है. संयुक्‍त अरब अमीरात (यूएई) में खेले जा रहे इस टूर्नामेंट का प्रारंभिक मुकाबला कल बांग्‍लादेश और श्रीलंका के बीच खेला जाएगा. टूर्नामेंट का रोमांच उस समय चरम पर होगा जब 19 सितंबर को प्रबल प्रतिद्वंद्वी भारत और पाकिस्‍तान की टीमें एक-दूसरे के सामने होंगी. टीम इंडिया इस टूर्नामेंट में अपने नियमित कप्‍तान विराट कोहली के बगैर उतरेगी, जिन्‍हें आगामी व्‍यस्‍त शेड्यूल को देखते हुए बीसीसीआई ने आराम देने का फैसला किया है. विराट की गैरमौजूदगी में ओपनर रोहित शर्मा टीम इंडिया की कमान संभाल रहे हैं. टूर्नामेंट में भारत और पाकिस्तान की टीमों के बीच दो मैच तो तय हैं लेकिन अगर दोनों टीमें फाइनल में पहुंचती है तो तीसरे मुकाबले की भी संभावना है. सभी मैच भारतीय समयानुसार शाम पांच बजे शुरू होंगे.भारत और पाकिस्तान के बीच ग्रुप लीग में एक मैच होगा जबकि दूसरा सुपर चार चरण में होना लगभग तय है. वैसे आयोजक, प्रसारक और समर्थक 28 सितंबर को होने वाले फाइनल में भी दोनों टीमों के पहुंचने की उम्मीद लगाए होंगे. भारत के पास यह देखने का मौका होगा कि टीम कोहली की अनुपस्थिति में दबाव भरे हालात में कैसे खेलेगी. भारतीय टीम टूर्नामेंट में अपने अभियान का आगाज18 सितंबर को हांगकांग के खिलाफ मैच खेलकर करेगी इसके अगले दिन यानी 19 सितंबर को उसे पाकिस्तान से दो-दो हाथ करना है. विराट की अनुपस्थिति में टीम की बागडोर संभाल रहे रोहित शर्मा की छवि शॉर्टर फॉर्मेट के जबर्दस्‍त खिलाड़ी की है लेकिन अच्छी टीमों के खिलाफ उनके नेतृत्व कौशल की परीक्षा नहीं हुई है. पिछले साल दिसंबर में श्रीलंका के खिलाफ उन्होंने कप्तानी संभाली थी लेकिन वो टीम इतनी मजबूत नहीं थी. ऐसे में हर किसी का ध्‍यान इस बात पर केंद्रित है कि  भारतीय टीम रोहित की कप्‍तानी में बेहतरीन पाकिस्तान से कैसे खेलती है. पाकिस्‍तानी टीम में मोहम्मद आमिर और हसन अी के रूप में विश्व स्तरीय तेज गेंदबाज, तथा फखर जमां और बाबर आजम जैसे बल्‍लेबाज शामिल हैं. टूर्नामेंट में टीम इंडिया की कोशिश अपने मिडिल ऑर्डर के कांबिनेशन को सेट करने के साथ पूर्व कप्‍तान महेंद्र सिंह धोनी के लिए उपयुक्‍त बल्लेबाजी क्रम में सही स्थान चुनने की होगी.एशिया कप में बांग्लादेश ने लगाातर अच्छा प्रदर्शन किया है. पिछले चरण में घरेलू मैदान पर वे फाइनल में पहुंचने में सफल रहे थे, हालांकि यह टी20 प्रारूप में खेला गया था. वर्ष 2012 में वे 50 ओवर के प्रारूप के फाइनल में खेले थे. मशरफे मुर्तजा की अगुवाई वाली टीम के पास दुबई और अबुधाबी में धीमी पिच के लिये अच्छा गेंदबाजी लाइन-अप है, वहीं बल्लेबाजी में तमीम इकबाल और महमूदुल्लाह  शामिल हैं. मुशफिकुर रहीम और शकिबुल हसन भी अच्छा प्रदर्शन दिखाने के काबिल हैं जिससे टीम को टूर्नामेंट में ‘छुपा रुस्तम’ कहा जा सकता है. श्रीलंका ऐसी टीम है जिसके खिलाफ भारत ने पिछले 24 महीनों में सभी प्रारूपों में सबसे ज्यादा मुकाबले खेले हैं. टीम में बदलाव का दौर काफी लंबा चल रहा है, इसके अलावा अंदरूनी मुद्दे जैसे बोर्ड का प्रशासन और वेतन विवाद से भी उन्हें कुछ समय से जूझना पड़ रहा है. हालांकि उनके पास एंजेलो मैथ्यूज, उपुल थरंगा, तिसारा परेरा और लसिथ मलिंगा के रूप में काफी अनुभव शामिल है जबकि युवाओं में अकिला धनंजय, दासुन शनाका और कासुन रंजीता मौजूद हैं. श्रीलंका की समस्या उनका लगातार अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाना है और वे उम्मीद करेंगे कि इसमें बदलाव कर सकें. अफगानिस्तान के लिये एशिया कप यह दिखाने का मौका होगा कि उनके पास टी20 सुपरस्टार राशिद खान के अलावा भी बेहतरीन खिलाड़ी मौजूद हैं. उनके पास मोहम्मद शहजाद भी है जिससे टीम एक दो उलटफेर करने की कोशिश करेगी. इनके अलावा हांगकांग की टीम भी इसमें खेल रही है जिसमें भारतीय मूल के अंशुमन रथ कप्तान होंगे. टीम की कोशिश प्रतिस्पर्धी बने रहने की होगी क्योंकि उनके मैचों को अब वनडे का दर्जा मिल गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here