तहखाने में चल रहा था कॉल सेंटर…बेची जा रही थी यौन शक्ति की दवाएं…पुलिस ने मारा छापा तो उड़ गए होश | जनता से रिश्ता

जनता से रिश्ता वेबडेस्क | लखनऊ: यौन शक्ति बढ़ाने वाली दवाओं का देश भर में बड़ा बाजार है. लेकिन इस बाजार के साथ-साथ अवैध ऑनलाइन बाजार भी इन शक्तिवर्धन दवाओं को अपने ग्राहकों तक पहुंचाता है. ज्यादा मुनाफा, टैक्स चोरी, लाइसेंस और जांच से बचने के लिए ये बाजार इंटरनेट के माध्यम से चलता है. इस धंधे को चलाने वाले लोग अपने ग्राहकों को ऑनलाइन साधते हैं. लखनऊ पुलिस ने ऐसे ही एक गैंग का खुलासा करते हुए 12 युवकों को गिरफ्तार किया है. पकड़े गए लोगों में मुंबई के आठ, पूर्वोत्तर के मेघालय के तीन और एक लखनऊ का आरोपी शामिल है.

मिली जानकारी के मुताबिक लखनऊ के तालकटोरा पुलिस को राजाजीपुरम के एक तीन मंजिला मकान में रहने वाले युवकों की संदिग्ध गतिविधियों की जानकारी मिल रही थी. पुलिस ने जब यहां छापा मारा तो वहां मौजूद युवकों में भगदड़ मच गई. इस दौरान कुछ युवक भागने में सफल रहे लेकिन पुलिस ने 12 युवकों को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने रेड डालकर मुंबई के रहने वाले मेहराम, फरहान शेख, उमर, शाहबाज, आसिफ शेख, सैयद वकार अब्बास, महमूद शेख, मेघालय के इकरामुल हुसैन, नीरज थापा, सोमेंद्र और लखनऊ के यामीन को गिरफ्तार किया है.

मकान के बेसमेंट से चलाया जा रहा था कॉल सेंटर

पुलिस के मुताबिक ये लोग मकान के बेसमेंट (तहखाना) से एक अवैध कॉल सेंटर चला रहे थे, जहां से वीओआईपी (वॉइस ओवर इंटरनेट प्रोटोकॉल) के माध्यम से लोगों को इंटरनेट कॉल कर के यौन वर्धक दवाओं को बेचा जाता था. इस गिरोह का सरगना मुंबई का साईं सुंदर सरोज राव बताया जा रहा है. लखनऊ से पुलिस टीम सरगना की गिरफ्तारी के लिए मुंबई रवाना हो गई है. एसीपी बाजारखाला अनिल यादव के मुताबिक इस कॉल सेंटर से कई कंपनियों की यौन शक्ति वर्धक दवाओं को बेचा जाता था. सिलडेनाफिल साइट्रेट के ब्रांड वियाग्रा समेत कई ब्रांड की दवाएं ये युवक बेचते थे. जीएसटी विभाग को मिली सूचना पर ये कार्रवाई की गई है. फिलहाल पुलिस मामला दर्ज कर जांच पड़ताल में जुटी है.