पिकासो की पेंटिंग बेचने की कोशिश में करोड़पति शख्स के ऊपर लगा 410 करोड़ का जुर्माना | जनता से रिश्ता

FILEPIC

जनता से रिश्ता वेबडेसक | स्पेन के एक अरबपति कला संग्रहकर्ता को आधिकारिक अनुमति के बिना विदेश में पाब्लो पिकासो की पेंटिंग की तस्करी के प्रयास के लिए मैड्रिड हाईकोर्ट द्वारा 18 महीने की जेल की सजा और करीब 410 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया गया। एक स्पेनिश अदालत ने 83 वर्षीय जैमी बोटिन, जो कि स्पेन के एक बड़े बैंक के पूर्व-अध्यक्ष हैं, ने गैरकानूनी रूप से देश के बाहर ‘हेड ऑफ ए यंग वुमन’ पेंटिंग ले जाने की कोशिश की थी। रिपोर्ट्स के मुताबिक, जैमी ने पिकासो की यह पेंटिंग साल 1977 में खरीदी थी। उन पर आरोप था कि वह इस पेंटिंग को लंदन के एक नीलामी घर को बेचने जा रहे थे। साल 2015 में कस्टम अधिकारियों ने जैमी के याट से पेंटिंग को जब्त किया था। उस समय याट फ्रांस के कोरसिका आइलैंड पर थी। 

जैमी पर पेंटिंग की तस्करी का केस 2015 से ही चल रहा था। इस पेंटिंग की कीमत करीब 205 करोड़ रुपये बताई जा रही है। फिलहाल इसे मैड्रिड के रैना सोफिया म्यूजियम में रखा गया है। दरअसल, स्पेन में नियम है कि कोई भी 100 साल से ज्यादा पुरानी वस्तु राष्ट्रीय धरोहर घोषित हो जाती है। उसे बेचने से पहले प्रशासन और उस वस्तु के निर्माता से इजाजत लेनी पड़ती है, जबकि जैमी ने पेटिंग बेचने से पहले किसी से भी इजाजत नहीं ली थी। 

जैमी ने सजा ज्यादा भी हो सकती थी, लेकिन चूंकि उनकी उम्र ज्यादा है और पहली बार इस तरह के किसी अपराध में लिप्त पाया गया, इसलिए सिर्फ 18 महीने की ही जेल की सजा सुनाई गई। हालांकि जैमी ने अदालत में अपने ऊपर लगे आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया था। उनका कहना था कि उन्होंने यह पिकासो की वह पेटिंग स्विस्टजरलैंड से खरीदी है। उनके वकील ने भी अदालत में यही दलील दी थी कि जब इसे विदेश से खरीदा गया था तो तस्करी का तो कोई मामला ही नहीं बनता है।