स्वतंत्रता दिवस पर सेना के शिविरों पर हमले की फिराक में लश्कर व जैश के 20 आतंकी

जनता से रिश्ता वेबडेस्क : श्रीनगर: पाकिस्तान में भले ही नई सरकार बनने जा रही हो, परंतु आतंकवाद को लेकर उसकी नीतियों में बदलाव के संकेत नहीं दिख रहे हैं। एक तरफ  पूर्व क्रिकेटर इमरान खान 14 या 15 अगस्त को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पद की शपथ ले सकते है, वहीं भारतीय खुफिया एजैंसियों ने आगाह किया है कि स्वतंत्रता दिवस पर पाकिस्तानी आतंकी भारतीय सेना के शिविरों पर बड़े हमले की साजिश रच रहे हैं। एक निजी चैनल की रिपोर्ट के मुताबिक मल्टी एजैंसी को-ऑर्डिनेशन सैंटर ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि 15 अगस्त को सेना के शिविरों पर बड़ा हमला हो सकता है।

रिपोर्ट के मुताबिक आतंकी संगठन लश्कर-ए-तोयबा और जैश-ए-मोहम्मद के 20 से ज्यादा आतंकी हमले के लिए तैयार हैं। पाकिस्तान की खुफिया एजैंसी को जैश-ए-मोहम्मद पर पूरा भरोसा है। इस बाबत 2 रिपोर्टें हैं कि नियंत्रण रेखा के पास कुछ आतंकी मौजूद हैं, जिन्हें तंगधार क्षेत्र में स्थित सेना के कैंप पर हमले के लिए भेजा गया है।

खबर है कि कुछ आतंकी सीमा पार कर गए हैं और फिलहाल वे रेकी कर रहे हैं। यह बात सैटेलाइट फोन से पकड़ में आई है। दूसरी रिपोर्ट जैश-ए-मोहम्मद को लेकर है। जैश आतंकियों को बारामूला इलाके में हमले के लिए रवाना किया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक पट्टन और बारामूला टाऊन के बीच के इलाके में उन्हें हमले के लिए कहा गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here