विस्फोटक से भरे टेंपो में धमाका…दो लोगों की मौत, सात मजदूर गंभीर रूप से घायल

जनता से रिश्ता वेबडेस्क:- कादीपुर औद्योगिक क्षेत्र में रविवार देर रात एक सीएनजी टेंपो में विस्फोट होने से दो लोगों की मौत हो गई जबकि सात मजदूर गंभीर रूप से घायल हो गए। घायलों को निकट के अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया गया। पांच की हालत गंभीर बनी हुई है। पुलिस ने एक घायल की शिकायत पर गोदाम मालिक के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। बताया गया कि गाड़ी एक पटाखा गोदाम के बाहर पार्क की गई थी। इसमें पटाखों के अलावा अन्य विस्फोटक सामग्री भरी थी। आग कैसे लगी, अंतिम सूचना मिलने तक इसका पता नहीं चल सका था। फरेंसिक विभाग इसकी जांच कर रही है। सेक्टर 10 के थाना प्रभारी संजय यादव ने बताया कि इस हादसे में दो लोगों की मौत हुई है जबकि पांच घायल हैं। गाड़ी से सामान उतारते वक्त हादसा हुआ। घायल कन्धई लाल के बयान पर गोदाम संचालक के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

दिल्ली से आया था टेंपो 
रविवार रात करीब सवा दस बजे एक टेंपो टाटा मैजिक दिल्ली से गुड़गांव के कादीपुर इंडस्ट्री एरिया की गली नंबर आठ के प्लॉट नंबर सात में आया था। यह कटारिया सेल कॉरपोशन का पटाखों का गोदाम है। इसके साथ लगते कई पटाखों के और गोदाम हैं। इस टेंपो में वन टाइम शॉट (जन्मदिन या अन्य उत्सव में इसका प्रयोग किया जाता है) नामक विस्फोटक सामग्री भरी हुई थी।

रात में मजदूर टेंपो से सामान उतार रहे थे। इसी दौरान अचानक गाड़ी में धमाका हुआ। देखते ही देखते पूरी गाड़ी में आग की चपेट में आ गई। इससे सामान उतार रहे व आसपास मौजूद सात लोग बुरी तरह आग में झुलस गए। धमाके की आवाज सुनकर आसपास के लोग एकत्र हो गए। पुलिस और फायर ब्रिगेड को सूचना दी गई। लोगों ने घायलों को निकट के प्राइवेट हॉस्पिटल में एडमिट करवाया गया।

डॉक्टरों ने बिहार के बेगूसराय निवासी नेपाल महतो (50) व राजस्थान के अजमेर निवासी सतार (45) को मृत घोषित कर दिया। वहीं, कन्धई लाल, लाल बहादुर, शैलेंद्र मिश्रा, अनिल कुमार व संजू घायल हो गए। हादसे की सूचना पाकर सेक्टर 37 और भीमनगर से दो फायर टेंडर मौके पर पहुंचे। सेक्टर दस ए थाना पुलिस भी मौके पर पहुंची। गनीमत रही कि गाड़ी में लगा सीएनजी सिलिंडर नहीं फटा, नहीं तो बड़ा हादसा हो सकता था। समय रहते आग पर काबू पा लिया गया। आग भड़कती तो पटाखे के गोदाम के अलावा साथ लगते अन्य पटाखों के गोदाम तक पहुंच सकती थी। फायर कर्मचारियों ने कुछ ही देर में आग पर काबू पाया लिया।

दमकल की दो गाड़ियों ने बुझाई आग 
सेक्टर 37 फायर स्टेशन के फायर ऑफिसर पंकज पाराशर ने बताया कि सूचना पाकर रविवार रात दो गाड़ियां मौके पर पहुंची थी। कार में विस्फोटक पदार्थ था। आग लगने के कारणों की जानकारी नहीं मिल पाई। सेक्टर दस थाना प्रभारी इंस्पेक्टर संजय यादव ने बताया कि इस हादसे में दो लोगों की मौत हुई है। पांच घायल हैं। गाड़ी से सामान उतारते वक्त यह हादसा हुआ। घायल कन्धई लाल के बयान पर गोदाम संचालक के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

डीसीपी से लिया जायजा, मजदूरों से पूछताछ 
सोमवार सुबह डीसीपी वेस्ट सुमेर सिंह ने मौके का जायजा लिया। उनके साथ एसीपी सिटी राजीव यादव, सेक्टर दस ए थाना प्रभारी संजय यादव भी मौजूद थे। इस दौरान फरीदाबाद से आई फरेंसिक टीम के अलावा गुड़गांव के फरेंसिक एक्सपर्ट भी मौजूद थे। पुलिस अधिकारियों ने यहां पर मजदूरों से बातचीत कर जानकारी ली। आग लगने के कारणों पर एक्सपर्ट से भी बातचीत की।

कैसे लगी आग, फरेंसिक टीम कर रही जांच 
पुलिस इस बात की जांच कर रही है कि धमाका कैसे हुआ। गोदाम में जमीन पर बनाए गए अस्थायी चूल्हे से चिंगारी उठने के अलावा किसी के धूम्रपान करने की बात सामने आ रही है। इसके अलावा एक मजदूर के हाथ से एक विस्फोटक पदार्थ की पेटी जमीन पर गिरने के बाद धमाके की बात भी सामने आ आई है। पुलिस का कहना है कि फरेंसिक रिपोर्ट सामने आने के बाद धमाके की वजह का पता चल सकेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here