लॉर्ड्स टेस्ट: टीम इंडिया में बड़ा बदलाव,शिखर धवन बाहर

Hits: 22

जनता से रिश्ता वेबडेस्क :-लंदन : इंग्लैंड के कप्तान जो रूट ने भारत के खिलाफ दूसरे टेस्ट क्रिकेट मैच में शुक्रवार को लॉर्ड्स के मैदान पर टॉसजीतकर पहले फील्डिंग का फैसला किया. टीम इंडिया ने एजबेस्टन में पहला टेस्ट मैच 31 रन से गंवाने वाली टीम में दो बदलाव किए हैं. टीम इंडिया ने सलामी बल्लेबाज शिखर धवन की जगह चेतेश्वर पुजारा और तेज गेंदबाज उमेश यादव के स्थान पर बाएं हाथ के कलाई के स्पिनर कुलदीप यादव को अंतिम एकादश में रखा है. शिखर धवन इस दौरे पर, खासकर लाल गेंद से काफी नाकाम रहे थे. पहले टेस्ट  में संघर्ष करते हुए 26 और 13 रन बनाए और उससे पहले अभ्यास मैच में एसेक्स के खिलाफ अभ्यास मैच की दोनों पारियों में शून्य पर ही आउट हो गए थे. 2014 की सीरीज में भी शिखर धवन सारे पांच टेस्ट नहीं खेल सके थे. तीन टेस्ट मैच के बाद उन्हें ड्रॉप कर दिया गया था. इस साल दक्षिण अफ्रीका के दौरे के दौरान रोहित शर्मा को अजिंक्य रहाणे की जगह तरजीह दी गई थी. अफ्रीका में रोहित शर्मा पहले दो टेस्ट मैचों में बुरी तरह फ्लॉप रहे थे. शायद इसी का नतीजा है कि उन्हें इंग्लैंड के खिलाफ 5 मैचों की टेस्ट सीरीज के पहले तीन मैचों के लिए टीम में जगह नहीं मिल पाई है. ऐसे में  पहले प्रैक्टिस मैच और फिर पहले टेस्ट मैच में बुरी तरह असफल रहने के बाद शिखर धवन को भी लॉर्ड्स टेस्ट में प्लेइंग इलेवन में जगह नहीं मिल पाई है. हालांकि, चेतेश्वर पुजारा को पहले टेस्ट मैच में प्लेइंग इलेवन में शामिल नहीं किए जाने पर कप्तान विराट कोहली और टीम मैनेजमेंट को काफी आलोचना का सामना करना पड़ा था.

शिखर एशियाई पिचों के बल्लेबाज रह गए हैं
शिखर धवन एक आक्रामक और लगातार स्ट्रोक खेलने वाले खिलाड़ी माने जाते हैं. भारतीय टीम के अधिकतर बल्लेबाजों पर यह आरोप लगते हैं कि वे केवल एशियाई पिचों के बल्लेबाज हैं. इसके अलावा वे अब केवल वनडे और टी-20 के बल्लेबाज ही माने जाने लगे हैं. कप्तान विराट कोहली के पहले टेस्ट में चेतेश्वर पुजारा को न खिलाने के फैसले का भी खासा विरोध हुआ था. हालांकि, शिखर धवन की तरह चेतेश्वर पुजारा भी एसेक्स के खिलाफ अभ्यास मैच में सफल नहीं हुए थे. पहली पारी में पुजारा एक ही रन और दूसरी पारी में 23 रन बनाकर आउट हो गए थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here